अगर धर्म नहीं होता तो कोई ”बुद्ध” भी नहीं होता

ओशो ने एक अनुयायी को कैंसरग्रस्त उसके करीबी दोस्त के लिए चिंतित पर कहा क‍ि – केवल एक ध्यानी ही

Read more