सैयद अली शाह गिलानी ने दिल्ली से लेकर श्रीनगर तक अकूत मिल्कियत बनाई

श्रीनगर। सैयद अली शाह गिलानी। कश्मीर में पाकिस्तान परस्ती की अलगाववादी आवाज अब खामोश हो गई है। कट्टरपंथी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के अलगाववादी गिलानी के बारे में एक तथ्य आपको हैरान कर देगा। हुर्रियत नेता ने दिल्ली से लेकर श्रीनगर तक अकूत मिल्कियत बनाई। चार साल पहले कश्मीर टेरर फंडिंग केस की जांच के दौरान एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) ने गिलानी पर शिकंजा कसा था। जांच एजेंसी ने उनके परिवार की 14 संपत्तियों के बारे में जानकारी दी थी।
100 से 150 करोड़ की बेहिसाब संपत्ति बनाई!
गिलानी फैमिली की संपत्तियों में स्कूल, आवासीय परिसर, खेती की जमीन से लेकर देश की राजधानी दिल्ली में फ्लैट भी शामिल हैं। इन सबकी कुल मिलाकर कीमत 100 से 150 करोड़ रुपये आंकी गई थी। ऑल पार्टीज हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के दिवंगत चेयरमैन सैयद अली शाह गिलानी का श्रीनगर के हैदरपोरा इलाके में घर है। 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटने के बाद इसी में हुर्रियत का दफ्तर भी चल रहा था। पांच हजार वर्गफुट की इस प्रॉपर्टी में गिलानी के अलावा उनकी पत्नी जवाहिरा बेगम का भी नाम है।
स्कूल, मकान…सोपोर में 30 करोड़ की प्रॉपर्टी
इसके अलावा बारामुला जिले के सोपोर के डोरू में उनके पास सात एकड़ जमीन है। इस जमीन पर दो मंजिला मकान और एक स्कूल (यूनिक पब्लिक स्कूल) भी बना हुआ है। इस संपत्ति की अनुमानित कीमत 30 करोड़ रुपये बताई जाती है। एनआईए की जांच में पता चला था कि गिलानी के संगठन तहरीक-ए-हुर्रियत को यह जमीन 2001 में डोनेट की गई थी। श्रीनगर के रहमत आबाद कॉलोनी में गिलानी का एक ऑफिस कम रेजिडेंस है। डेढ़ कैनाल जमीन पर बनी यह संपत्ति मिल्ली ट्रस्ट के पांच सदस्यों- बशीर अहमद उर्फ पीर सैफुल्लाह, मोहम्मद अशरफ सेराज, अल्ताफ अहमद शाह (गिलानी के बड़े दामाद), जवाहिरा बेगम (गिलानी की बीवी) और डॉक्टर नईम गिलानी (गिलानी के बेटे) के नाम पर है। गिलानी के दो बेटे डॉक्टर नईम गिलानी और नसीम गिलानी हैं। वहीं चार बेटियां अनीसा, फरहत, चमशिदा और जमशिदा हैं। अनीसा और फरहत दूसरी शादी से हैं।
श्रीनगर में ये संपत्तियां एनआईए के रेडार पर
श्रीनगर के बुलबुल बाग में भी एक दो मंजिला मकान एनआईए के रडार पर है। हालांकि गिलानी ने दावा किया था कि यह संपत्ति जमात-ए-इस्लामिया की है। श्रीनगर के बाग-ए-महताब में एक दो मंजिला मकान भी गिलानी परिवार की संपत्ति में शामिल है। गिलानी की सबसे बड़ी बेटी चमशिदा के नाम पर यह प्रॉपर्टी है। एनआईए के मुताबिक श्रीनगर के बेमिना में भी एक तीन मंजिला आलीशान कोठी भी गिलानी की मिल्कियत में है। इसकी रजिस्ट्री उनकी बेटी के जमशिदा के नाम पर है। पटन के सिंहपोरा में भी 100 से 150 कैनाल जमीन अलगाववादी नेता के नाम पर है।
दिल्ली के पॉश इलाके में फ्लैट का हवाला लिंक
कश्मीर घाटी ही नहीं देश की राजधानी के पॉश इलाकों में से एक वसंत कुंज में भी एक प्रॉपर्टी गिलानी के पास है। यहां खिड़की एक्सटेंशन के गुप्ता कॉलोनी में दो कमरे का एक फ्लैट है। इस फ्लैट की जीएम बट (हवाला लिंक) के नाम पर रजिस्ट्री है। बताया जाता है कि इस प्रॉपर्टी के लिए गिलानी ने 8 लाख रुपये अदा किए थे। 2017 में एनआईए ने टेरर फंडिंग केस की जांच में तकरीबन तीन महीने तक पुंछ, राजौरी और कश्मीर घाटी के कई हिस्सों में छापे मारे थे। इसके बाद गिलानी के दामाद अल्ताफ शाह, पार्टी प्रवक्ता अयाज अकबर, पीर सैफुल्लाह और राजा मेहराज कलवाल को गिरफ्तार किया था। वहीं मीरवाइज उमर फारूक गुट के प्रवक्ता शाहिद उल इस्लाम, जम्मू-कश्मीर नेशनल फ्रंट के नईम खान और फारूक अहमद डार को भी एनआईए ने अरेस्ट किया था। टेरर फंडिंग की तफ्तीश के दौरान पता चला है कि अलगाववादी नेताओं के पास बेशुमार संपत्ति है।
बेटे और दामाद भी बेशुमार संपत्ति के मालिक
गिलानी के बेटे डॉक्टर नईम गिलानी और दामाद अल्ताफ अहमद शाह के पास भी अकूत संपत्ति बताई जाती है। एनआईए के दावे के मुताबिक नईम के पास श्रीनगर के करावलपोरा में चार कैनाल जमीन और संतनगर में 8 कमरे का मकान है। इसके अलावा सोपोर के डोरू में 1 लाख 80 हजार वर्गफुट जमीन का वह मालिक है। इसमें सेब के बाग भी हैं। वहीं श्रीनगर के बागात में 12 कमरे का मकान और नवलरी पटन में सेब का बाग और दो मकान हैं। दिल्ली के वसंत कुंज में भी उसके नाम फ्लैट है। एनआई ने बताया था कि गिलानी के दामाद अल्ताफ शाह के पास बाग-ए-महताब में दो मंजिला मकान, बठंडी में दो कमरे का मकान, श्रीनगर के लाल चौक में दुकान (पुश्तैनी संपत्ति) और हंडोरह के गांवों में 36 हजार वर्गफुट जमीन है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *