अमरनाथ विद्या आश्रम में मनायी गयी Swami Vivekananda की जयन्ती

Swami Vivekananda के जीवन से प्रेरणा लेने को विद्यार्थियों ने लिया संकल्प

मथुरा। जनपद की प्रमुख आवासीय शिक्षण संस्था अमर नाथ विद्या आश्रम में युवाओं के लिये आदर्श Swami Vivekananda जी की जयन्ती को श्रद्धापूर्वक मनाया गया। अमर नाथ विद्या आश्रम के विद्यार्थियों ने स्वामी विवेकानन्द के छायाचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया तथा उनके जीवन से प्रेरणा लेने का संकल्प लिया । छात्र-छात्राओं ने अपनी वार्ता तथा कविता के माध्यम से स्वामी जी के जीवन पर प्रकाश डाला ।

अमर नाथ विद्या आश्रम के प्रधानाचार्य डा. अरूण वाजपेयी ने अपने संदेश में कहा कि विवेकानन्द जी ने युवाओं को जागृत करने का अभियान चलाया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘जागो, उठो और तब तक मत रूको जब तक लक्ष्य को प्राप्त न कर लो। स्वामी जी ने युवाओं से कहा था कि स्वस्थ शरीर में ही स्वच्छ मस्तिष्क निवास करता है। स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के अवसर पर उन्होंने कहा कि विद्यार्थी स्वामी विवेकानन्द जी के आध्यात्मिक जीवन से प्रेरणा ले तथा अपने अच्छे कार्यों द्वारा देश को गौरवान्वित करें । उन्होंने बताया कि स्वामी विवेकानन्द जी के विचारों पर अमल करने से ही भारत पुनः विश्वगुरू बन सकता है ।

उप प्रधानाचार्य डा. अनुराग वाजपेयी ने बच्चों को स्वामी विवेकानन्द जयन्ती की शुभकामनायें देते हुये बताया कि स्वामी विवेकानन्द युवाओं के पथ प्रदर्शक थे। उन्होंने बच्चों को बताया कि 12 जनवरी 1863 को जन्में स्वामी विवेकानन्द बचपन से अत्यन्त कुशाग्र बुद्धि के बालक थे । माता-पिता एवं गुरू के संस्कारों और धार्मिक वातावरण के कारण उनके मन में बचपन से ही ईश्वर को जानने और उसे प्राप्त करने की लालसा थी ।

छात्रा इरफा खानम, शैली गोला, राजू कुंतल, प्रशांत सिंह, आयुषी यादव, श्रेष्ठ वशिष्ठ, अजय चैधरी, मोहिनी शर्मा सहित अनेकों विद्यार्थियों ने स्वामी जी के जीवन परिचय, संस्मरण, कविता, अनमोल वचन, विचार, आदि प्रस्तुत करते हुये कहा कि स्वामी विवेकानन्द जी ने अपने गुरू के उन वचनों का जीवन भर पालन किया। उन्होंने 39 वर्ष की अल्पायु में युवाओं को मानव सेवा का महत्व बताते हुये कहा था कि आज लाखों लोग दुःखों के बंधन में जकड़े हुये हैं, उन्हें इस बन्धन से मुक्त कराना ही सन्यासी का सच्चा कर्तव्य है और यदि भगवान के दर्शन करने हो तो भगवान स्वरूप मनुष्य मात्र की सेवा करो। कार्यक्रम का संचालन रिचा अग्रवाल ने किया । इस अवसर पर सुनील तिवारी, पुनीत वाजपेयी, अनुराग शर्मा, शुभम मोहन सहित सभी शिक्षक विशेष रूप से उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »