सड़क हादसे में Swami हंसदेवाचार्य का निधन, संतों में शोक

लखनऊ। महंत जगतगुरु Swami हंसदेवाचार्य की फॉर्च्यूनर कार आज सुबह एक ट्रक में जा भिड़ी जिसके बाद घायलावस्‍था में हंसदेवाचार्य को अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मृत्‍यु हो गई।

उन्नाव के बांगरमऊ में देवखरी के पास शुक्रवार सुबह हरिद्वार शहर निवासी महंत जगतगुरु Swami हंसदेवाचार्य जी की फॉर्च्यूनर कार ट्रक में जा भिड़ी। हादसा इतना जोरदार था कि उनकी कार के परखच्चे उड़ गए। लहूलुहान हालत में उन्हें नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जहां से उन्हें लखनऊ पीजीआई रेफर कर दिया गया। महंत जगतगुरु हंसदेवाचार्य जी की मृत्यु की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके अंतिम दर्शनों के लिए लखनऊ पीजीआई पहुंचे।
वह प्रयागराज से दिल्ली जा रहे थे। यह हादसा सुबह 5 बजे उन्नाव के पास हुआ। पीजीआई में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। सूत्रों की माने तो लखनऊ की किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी मेें उनका पोस्टमार्टम चल रहा है।

अस्पताल के बाहर साधु संतों के साथ भाजपा नेताओं ने एकत्र होना शुुरु कर दिया। कुंभ के दौरान महंत जगतगुरु हंसदेवाचार्य जी ने विहिप की धर्म संसद में प्रमुख भूमिका निभाई थी। राम मंदिर मुद्दे पर उन्होंने सरकार का साथ देते हुए नाराज साधु संतों को एकजुट करने का काम किया।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के अलावा केंद्र सरकार के कई मंत्रियों ने कुंभ क्षेत्र में आकर महंत जगतगुरु हंसदेवाचार्य से कई मुद्दों पर विचार विमर्श किया।

जगन्नाथ धाम के नाम से महंत जगतगुरु हंसदेवाचार्य जी का हरिद्वार में आश्रम है। श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा वरिष्ठ महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्रा नंद गिरी ने कहा महंत जगतगुरु हंसदेवाचार्य जी के जाने से साधु समाज को क्षति हुई है। वह संत समाज का नेतृत्व करने वालों में से थे।

स्वामी हंसदेवाचार्य बैरागियों के मुखिया थे और साथ ही राम मंदिर निर्माण आंदोलन में अहम भूमिका निभा रहे थे। स्वामी हंसदेवाचार्य के निधन पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि, शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के प्रतिनिधि स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद, आनंद गिरि, सतुआ बाबा संतोष शास्त्री आदि ने शोक जताया। मिली जानकारी के अनुसार, स्वामी हंसदेवाचार्य का पोस्टमार्टम लखनऊ  पीजीआई में किया जाएगा। -एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »