बंगला विवाद पर चारों ओर से घिरे अखिलेश यादव ने टोंटी लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की

लखनऊ। बंगला विवाद पर चारों ओर से घिरे समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पलटवार करते हुए बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि उन्होंने बंगले में कोई तोड़-फोड़ नहीं कराई, न ही किसी तरह का नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि वह बंगले से वही चीजें निकालकर ले गए हैं जो उन्होंने खुद लगवाईं थीं। साथ ही कहा कि मीडिया में गलत तस्वीरें दिखाई गईं।
अखिलेश प्रेस कॉन्फ्रेंस में टोंटी लेकर पहुंचे थे। अखिलेश ने कहा कि जो टोंटी गायब मिली है वही लौटाने आए हैं। मैं सारी टोंटियां देने को तैयार हूं। ये टोंटी बीजेपी को देना चाहता हूं ताकि उनकी नफरत कम हो। अखिलेश ने ये भी कहा कि सीएम आवास में भी बहुत सारे मेरे सामान हैं, वो सब लौटा दें सीएम।
अखिलेश ने कहा कि मैंने उस घर को अपनी पसंद से बनाया है। अगर मुझे कुछ पसंद है तो वो मैं अपने पैसे से करूंगा, दूसरों के पैसे से नहीं। मीडिया ये पता करे कि आपसे पहले वहां कौन पहुंचे। उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया के पहुंचने से पहले सीएम के ओएसडी अभिषेक और आईएएस मृत्युंजय नारायण पहुंचे थे।
आरएसए, पीडब्ल्यूडी की टीएम वहां गई थी। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कल को हमारी सरकार बनी तो हो सकता है कि यही अफसर ये दिखा दें कि यहां बंगले में चिलम मिला है। स्टेडियम था तो मेरा था, स्टील स्ट्रक्चर इसीलिए बनाया था कि कल को कहीं जाना पड़े तो मैं हटा सकूं।
अखिलेश ने कहा कि लोग प्यार में अंधे होते हैं लेकिन गुस्से और जलन में वो कितने अंधे होते हैं, वो अब मैंने देखा है। जिन्हें नफरत होती है वे ही ऐसा करते हैं। जो सामान मेरा था वही मैं लेकर गया। उन्होंने मीडिया पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कम से कम जो सही था वो तो दिखाते। सपा अध्यक्ष ने कहा कि मुझे तो सरकार की रिपोर्ट का इंतजार है, जिससे पता चले कि मैंने सरकारी संपत्ति को कितना नुकसान पहुंचाया है।
सरकार के इशारे पर तोड़फोड़ के सवाल पर उन्होंने कहा कि जैसा घर मुझे मिला था, जो भी सरकार ने मुहैया कराया था, वो सब यथावत मौजूद है। उन्होंने कहा कि उन्हें बंगले में जो चीजें जैसी मिली थीं वह वैसी की वैसी ही हैं। इवेंट्री चेक करा लीजिए, सारा दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। उन्होंने बंगले में स्विमिंग पूल होने की बात को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि सरकार कागजों पर चलती है बातों पर नहीं। मेरे घर में 1000 बच्चे आ चुके हैं उनसे पता कर लीजिए अगर कहीं वहां स्वीमिंग पूल देखा हो।
‘बहुत छोटे दिल वाली सरकार है’
बीजेपी पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा कि यह छोटे दिल की सरकार है जो मेट्रो के उद्घाटन पर जाती है और पूर्व सरकार को श्रेय देना भूल जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी गठबंधन (एसपी-बीएसपी) से डरी हुई है। साथ ही उपचुनाव में मिली हार से बौखलाकर ऐसा काम करवा रही है। बता दें कि अखिलेश के सरकारी बंगला खाली करने के बाद ऐसी तस्वीरें सामने आई थीं जिसमें घर के अंदर तोड़-फोड़ दिख रही थी। इससे उनकी मीडिया और राजनीतिक गलियारे में काफी फजीहत हुई थी।
‘राज्यपाल के अंदर संविधान नहीं, आरएसएस की आत्मा है’
उन्होंने कहा कि मीडिया पहले उन अधिकारियों के नाम बताए जो सीएम के वहां जाने से पहले गए थे। अखिलेश ने राज्यपाल पर भी निशाना साधते हुए कहा कि राज्यपाल के अंदर संविधान नहीं, आरएसएस की आत्मा है। अखिलेश ने कहा कि अब समाजवादी कार्यकर्ता देश का नया पीएम बनाएंगे।
‘मंदिर की तस्वीरें नहीं दिखाईं आपने’
अखिलेश ने फोटो जर्नलिस्ट्स पर निशाना साधते हुए कहा कि मैं भी अच्छी तस्वीरें खींच लेता हूं और बंगले की ऐसी तस्वीरें खींचूगा कि लोगों को जलन होगी। मैंने बंगले के अंदर मंदिर भी बनवाया है, उसे नहीं दिखाया गया। बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि नफरत और जलन की आग में अंधे हो गए, उन्हें स्विमिंग पूल दिख रहा है।
अखिलेश को नोटिस देने की तैयारी में संपत्ति विभाग
इस बीच यूपी का राज्य संपत्ति विभाग अखिलेश यादव को चार विक्रमादित्य मार्ग के बंगले में हुई तोड़फोड़ के लिए उन्हें नोटिस देने की तैयारी कर रहा है। राज्य संपत्ति विभाग की प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार बंगले में तोड़फोड़ की गई है। यह रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दी गई है। नुकसान कितना हुआ है, इसका आकलन करने के लिए लोक निर्माण विभाग की मदद ली जाएगी।
राज्य संपत्ति विभाग की रिपोर्ट में सामने आया है कि अखिलेश के बंगले में छत से लेकर किचन, बाथरूम और लॉन तक में सामान निकाले गए। कई जगह फाल सीलिंग तोड़कर बिजली के सामान निकाल लिए गए और कुछ जगह बाथरूम की फिटिंग, एसी के स्विच बोर्ड, किचन में सिंक और टोटी, बाथरूम की टोटियां और लॉन में लगी बेंच तक निकाल ली गईं हैं। बंगले में बना जिम, स्पोर्ट कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल, साइकल ट्रैक तक तोड़ दिया गया।
राम नाइक ने सीएम योगी को लिखा पत्र, उचित कार्यवाही हो
वहीं, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा है कि अखिलेश यादव द्वारा बंगला खाली करने से पहले हुई तोड़फोड़ के मामले में उचित कार्यवाही की जानी चाहिए। उन्होंने लिखा कि 4 विक्रमादित्य मार्ग पर आवंटित आवास को खाली किए जाने से पहले उसमें की गई तोड़फोड़ का मामला मीडिया और जनमानस में चर्चा का विषय बना हुआ है। यह एक अनुचित और गंभीर मामला है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »