चौंकाने वाली जानकारी: मोदी को राजीव गांधी की तरह मारना चाहते थे माओवादी

पुणे। भीमा-कोरेगांव हिंसा में पांच लोगों की गिरफ्तारी के बाद चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। पुणे पुलिस को एक आरोपी के घर से ऐसा पत्र मिला है, जिसमें ‘राजीव गांधी की हत्या’ जैसी प्लानिंग का जिक्र किया गया है। पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने की बात कही गई है। पुलिस ने बुधवार को रोना जैकब विल्सन, सुधीर ढावले, सुरेंद्र गाडलिंग सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। विल्सन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था, ढावले को मुंबई से, गाडलिंग, शोमा सेन और महेश राउत को नागपुर से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का कहना है कि यह पत्र विल्सन के दिल्ली के मुनिरका स्थित फ्लैट से बरामद किया गया है।

पत्र में कहा गया है, ‘मोदी 15 राज्यों में बीजेपी को स्थापित करने में सफल हुए हैं। यदि ऐसा ही रहा तो सभी मोर्चों पर पार्टी के लिए दिक्कत खड़ी हो जाएगी। … कॉमरेड किसन और कुछ अन्य सीनियर कॉमरेड्स ने मोदी राज को खत्म करने के लिए कुछ मजबूत कदम सुझाए हैं। हम सभी राजीव गांधी जैसे हत्याकांड पर विचार कर रहे हैं। यह आत्मघाती जैसा मालूम होता है और इसकी भी अधिक संभावनाएं हैं कि हम असफल हो जाएं, लेकिन हमें लगता है कि पार्टी हमारे प्रस्ताव पर विचार करे। उन्हें रोड शो में टारगेट करना एक असरदार रणनीति हो सकती है। हमें लगता है कि पार्टी का अस्तित्व किसी भी त्याग से ऊपर है। बाकी अगले पत्र में।’

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने इस खुलासे पर कहा, ‘अभी तक तो सुरक्षा संस्थाएं अपना काम कर रही हैं। नेताओं की हिफाजत अभी वे ही कर रहे हैं। अभी कैसे कुछ कहें? कोर्ट-कचहरी बातों को सुन रही है, सुनने दें, तब पता चलेगा असलियत क्या है।’ वहीं मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं कि यह पूरी तरह झूठ है, लेकिन यह पीएम मोदी की पुरानी युक्ति है, जब से वह सीएम रहे हैं। जब भी उनकी पॉपुलैरिटी में गिरावट आती है, उनकी हत्या की साजिश की खबरें आने लगती हैं। यह भी जांच होनी चाहिए कि इस बार इस खबर में कितनी सचाई है।’

बता दें कि आरोपियों को भीमा-कोरेगांव में 1 जनवरी को हुई हिंसा से ठीक एक दिन पहले आयोजित यलगार परिषद के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। उन पर प्रतिबंधित कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवाद) से जुड़े होने, विवादास्पद पर्चे बांटने, नफरत फैलाने वाले भाषण देने का आरोप है।
पुलिस ने गुरुवार को उन्‍हें यहां सेशन कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्‍हें 14 जून तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। अभियोजक पक्ष की ओर से अदालत में पेश वकील उज्‍जवला पवार ने कहा कि विल्‍सन के घर से जो चिट्ठी मिली है, उसमें लिखा है कि M-4 रायफल और हथियार खरीदने के लिए आठ करोड़ रुपये की जरूरत है। गुरुवार को ही जॉइंट पुलिस कमीश्‍नर रवींद्र कदम ने कहा था कि विल्सन के घर से कथित तौर पर बरामद पत्र सीपीआई (एम) से जुड़े मिलिंद तेलतुम्‍बडे ने भेजा था।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »