फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस सौदे के रेग्युलेटरी अप्रूवल पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने फ्यूचर ग्रुप और देश के सबसे रईस शख्स मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज के सौदे को रेग्युलेटरी अप्रूवल पर रोक लगा दी है। जेफ बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी ऐमजॉन (Amazon) ने इस सौदे को अदालत में चुनौती दी थी। देश की रीटेल सेक्टर पर दबदबे के लिए रिलायंस और ऐमजॉन में होड़ लगी है।
ब्लूमबर्ग के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने ऐमजॉन की याचिका पर सहमति जताते हुए निचली अदालत के फैसले को पलट दिया और कंपनी ट्रिब्यनल को अगले आदेश तक इस डील को मंजूरी देने से रोक दिया। कोर्ट ने साथ ही किशोर बियानी की फ्यूचर रीटेल को नोटिस जारी कर ऐमजॉन की याचिका पर लिखित में बयान देने को कहा है। मामले की अगली सुनवाई 5 हफ्ते बाद होगी।
क्या है मामला
भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने कुछ शर्तों के साथ इस सौदे को मंजूरी दी थी। रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहयोगी कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (RRVL) ने फ्यूचर ग्रुप के रिटेल एंड होलसेल बिजनेस और लॉजिस्टिक्स ऐंड वेयरहाउसिंग बिजनेस को खरीदने का सौदा पिछले साल किया था। यह डील 24,713 करोड़ में फाइनल हुई है लेकिन फ्यूचर रिटेल की पहले से सहयोगी ऐमजॉन ने इस डील पर आपत्ति जताई थी।
ऐमजॉन ने सिंगापुर में मध्यस्थता अदालत से लेकर सेबी, कोर्ट तक का दरवाजा खटखटाया। यह मामला दिल्ली हाईकोर्ट में गया और वहां से फ्यूचर रिटेल को राहत मिल गई थी। लेकिन दिल्ली उच्च न्यायालय के डिवीजन बेंच ने हाईकोर्ट के ही एकल न्यायाधीश के उस आदेश पर रोक लगा दी, जिसमें फ्यूचर रिटेल लिमिटेड (FRL) और रिलायंस रिटेल के बीच हुई डील को यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया गया था।
पूरी दुनिया के निवेशकों की नजर
भारत के करीब एक ट्रिलियन डॉलर के रीटेल मार्केट पर दबदबे के लिए दुनिया के दो अमीरों जेफ बेजोस और मुकेश अंबानी के बीच जंग छिड़ी हुई है। इस पर दुनियाभर के निवेशकों की नजर लगी हुई है। बेजोस की ई-कॉमर्स कंपनी ऐमजॉन ने रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील को रोकने के लिए पूरी जान लगा रखी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *