हापुड़ के कथित मॉब लिंचिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आईजी से मांगी रिपोर्ट

नई दिल्‍ली। यूपी के हापुड़ में हुए कथित मॉब लिंचिंग मामले में दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने मेरठ के आईजी को निर्देश दिया है कि वह मामले की छानबीन कर दो हफ्ते में सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट पेश करें। हापुड़ में कथित मॉब लिंचिंग मामले में भीड़ ने एक शख्स को मार डाला था जबकि दूसरा घायल हो गया था। घायल की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर सुरक्षा की गुहार लगाते हुए मामले में जल्द सुनवाई की मांग की गई है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली बेंच ने मामले की सुनवाई के दौरान यूपी पुलिस को नोटिस जारी कर रिपोर्ट देने को कहा है।
सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता समिउद्दीन की ओर से अर्जी दाखिल की गई है। समिउद्दीन ने कहा है कि भीड़ ने उन्हें निशाना बनाया और इस दौरान उसे बुरी तरह से पीटा गया था। याचिका में सुरक्षा के साथ-साथ घटना की एसआईटी जांच की मांग भी की गई है। याचिका में ये भी कहा गया है कि मामले की सुनवाई यूपी से बाहर होना चाहिए और केस ट्रांसफर किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि मामले में हाल में एक टीवी चैनल का स्टिंग भी सामने आया था।
सोमवार को सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने यूपी के हापुड़ जिले के एसपी को निर्देश दिया है कि वह शिकायती और घटना में घायल हुए विक्टिम के आग्रह पर गौर करे जिसमें याचिकाकर्ता ने गुहार लगाई है कि उसे सुरक्षा प्रदान किया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने साथ में राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है और साथ ही मेरठ रेंज के आईजी से कहा है कि वह मामले की छानबीन कर इस मामले में रिपोर्ट पेश करें। अदालत ने इस मामले की सुनवाई 28 अगस्त के लिए टाल दी है।
7 अगस्त को हापुड़ में कथित मॉब लिंचिंग मामले में दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की सहमति दे दी थी और कहा था कि वह 13 अगस्त को मामले की सुनवाई करेगी। चीफ जस्टिस की अगुवाई वाली बेंच के सामने ऐडवोकेट वृंदा ग्रोवर ने दलील दी थी कि 18 जुलाई को 45 साल के कासिम कुरैशी की हत्या की गई थी। कासिब और समिउद्दीन साथ में जा रहे थे लेकिन हापुड़ में लोगों ने उन्हें बुरी तरह पीटा था और आरोप लगाया था कि दोनों गोकशी में संलिप्त हैं। वृंदा ग्रोवर ने कहा कि मामले में जल्दी सुनवाई की दरकार है क्योंकि यूपी पुलिस इसे रोडरेज बता रही है जबकि घटना के बाद 45 साल के कासिम कुरैया को जान से मारा गया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »