मुहर्रम के जुलूस की अनुमति देने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

नई द‍िल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को COVID 19 महामारी के बीच मुहर्रम जुलूस को अनुमति देने से इनकार कर दिया। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) एसए बोबडे, जस्टिस एएस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यन की पीठ ने कहा कि देश भर में जुलूस निकालने के लिए सामान्य निर्देश देने से अराजकता पैदा होगी और एक विशेष समुदाय को फिर वायरस फैलाने के लिए टारगेट किया जा सकता है। याचिकाकर्ता ने शीर्ष अदालत के उदाहरणों का हवाला दिया कि पुरी की रथयात्रा जुलूस को निर्धारित मानक संचालन प्रक्रियाओं के तहत आयोजित करने की अनुमति दी गई, लेकिन CJI बोबडे ने टिप्पणी की कि ये अलग मामले हैं, जैसे कि पुरी रथ यात्रा में एक्सेस प्वॉइंट (पहुंच के बिंदु) पहले से तय थे।

याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले का हवाला दिया, जिसमें उसने दादर और बायकुला में सुप्रीम कोर्ट ने पर्यूषण पर्व के दौरान चुनिंदा जैन मंदिरों में प्रार्थना करने की अनुमति दी थी। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया : “वे सभी सीमित प्रार्थनाएंं थीं, सामान्य निर्देश पारित नहीं कर सकते। तमिलनाडु में गणेश उत्सव की अनुमति नहीं दी गई थी।” अदालत ने आगे कहा कि याचिकाकर्ता के लखनऊ में जुलूस निकालने के अनुरोध को ठुकरा दिया, जिसमें कहा गया कि शिया समुदाय का एक बड़ा हिस्सा वहां निवास करता है और उस संबंध में आदेश पारित किए जा सकते हैं।

दो दिन पहले मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यन की पीठ ने याचिकाकर्ता से कहा था कि वह अपनी याचिका में 28 राज्यों को पार्टी बनाएं और केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को निर्देश देने की मांग करें, जिसमें जुलूस को केवल एक सीमित क्षमता में होने दिया जाए। पीठ ने कहा था, ” जैसा कि प्रार्थना की गई, याचिकाकर्ता को याचिका में 28 राज्यों को उत्तरदाता पक्षकार के रूप में पेश करने की अनुमति है।” याचिकाकर्ता के वकील वासी हैदर ने प्रस्तुत किया कि अनुष्ठान हर साल किया जाता है और केवल यह पूछ रहे हैं कि 5 लोगों को इसमें शामिल होने की अनुमति दी जाए।’

इस पर चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने जवाब दिया, “लेकिन COVID 19 हर साल नहीं आता।” मुख्य न्यायाधीश बोबडे ने हालांकि किसी भी आदेश को पारित करने से इनकार कर दिया था, लेकिन कहा कि 28 राज्यों और संघ को याचिका में निहित नहीं किया गया है और वह कोई भी आदेश को पारित करने से पहले उन्हें पहले सुनना चाहेंगे। मुख्य न्यायाधीश ने यह भी कहा कि अभी हाल ही में, उन्होंने लोगों को दादर, बायकला और चेंबूर के मंदिरों में एक सीमित क्षमता में प्रार्थना समारोह में प्रार्थना करने की अनुमति दी थी, लेकिन ऐसा इसलिए भी था क्योंकि महाराष्ट्र और संघ राज्य पीठ के समक्ष थे।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *