‘चौकीदार चोर है’ पर राहुल गांधी के जवाब से संतुष्‍ट नहीं सुप्रीम कोर्ट, मानहानि का नोटिस जारी

नई दिल्‍ली। ‘चौकीदार चोर है’ पर राहुल गांधी द्वारा कल जताए गए खेद से सुप्रीम कोर्ट संतुष्‍ट नहीं हुआ। सुप्रीम कोर्ट ने आज राहुल गांधी को कोर्ट की अवमानना का नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 30 अप्रैल हो होगी।
गौरतलब है कि राहुल गांधी ने शीर्ष अदालत का जिक्र कर ‘चौकीदार चोर है’ वाले अपने बयान को जायज ठहराया था और कहा था कि अब सुप्रीम कोर्ट ने भी चौकीदार को चोर मान लिया है।

राहुल गांधी का वह बयान जिसने उन्‍हें फंसा दिया
राहुल गांधी का वह बयान जिसने उन्‍हें फंसा दिया

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने मामले की सुनवाई करते हुए पूछा कि क्या बेंच ने चौकीदार चोर शब्द का प्रयोग किया था?
सुप्रीम कोर्ट अब राफेल पर रिव्यू याचिका और मीनाक्षी लेखी द्वारा राहुल के खिलाफ दाखिल अवमानना याचिका की सुनवाई 30 अप्रैल को करेगा।
लेखी की तरफ से पेश वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि राहुल गांधी ने यह कहने के बावजूद कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का आदेश पढ़े बिना पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ गलत बयान दिया है, माफी नहीं मांगी है।
राहुल गांधी की ओर से पेश वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि कोर्ट के हवाले से चौकीदार चोर है कहने के लिए खेद है। सिंघवी ने कहा कि राहुल विनम्र और ईमानदार हैं। उन्होंने अपनी गलती के लिए खेद जताया है और कोर्ट से मामले को बंद करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि पर उनके मुवक्किल पॉलिटिकल स्लोगन चौकीदार चोर है पर कायम हैं। बता दें कि पहले कोर्ट ने राहुल से स्पष्टीकरण मांगा था अब सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है।
सिंघवी ने कहा, ‘हमने आज सुप्रीम कोर्ट में संदर्भ रखा कि यह बयान क्यों, कब, कैसे दिया गया था। हमने कोर्ट को बताया कि राहुल गांधी पिछले करीब 18 महीने से यह अखिल भारतीय अभियान चला रहे हैं। यह मुद्दा व्यापक है। हमने अपने हलफनामे में कहा कि यह चौकीदार चोर है जैसे बयान का प्रयोग हम राजनीतिक संदर्भ में आगे भी करते रहेंगे। सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर की अपलोडिंग के पहले राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान के लिए हमने खेद प्रकट किया है।’
बता दें कि 10 अप्रैल को शीर्ष अदालत ने सरकार की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए राफेल मामले में रिव्यू पिटीशन पर नए दस्तावेज के आधार पर सुनवाई की फैसला किया था। सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 3 सदस्यीय बेंच ने एक मत से दिए फैसले में कहा था कि जो नए दस्तावेज डोमेन में आए हैं, उन आधारों पर मामले में रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई होगी।
इसके बाद राहुल ने मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा था कि अब सुप्रीम कोर्ट ने मान लिया है कि चौकीदार चोर है। इससे पहले कल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट में अपने ‘चौकीदार चोर है’ बयान को लेकर माफीनामा दिया। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में राहुल गांधी ने कहा था कि चुनाव के आवेश में उन्होंने यह बयान दिया।
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने लीक दस्तावेजों को वैध मानते हुए राफेल डील पर पुनर्विचार याचिका स्वीकार की थी। राहुल ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा था कि सर्वोच्च न्यायालय ने माना है कि ‘चौकीदार चोर है’। बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने इसे सुप्रीम कोर्ट की अवमानना बताते हुए याचिका दाखिल की थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »