पटना एयरपोर्ट पर रविशंकर प्रसाद व RK Sinha के समर्थकों भिड़े, लाठीचार्ज

पटना। पटना एयरपोर्ट तब रणक्षेत्र में तब्दील हो गया जब केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और RK Sinha के समर्थक आपस में भिड़ गए। पटना साहिब सीट को लेकर दोनों नेताओं के समर्थक नाराज थे। यहां वरिष्ठ भाजपा नेता RK Sinha और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और के समर्थकों में झड़प हुई है। पटना एयरपोर्ट पहुंचते ही सिन्हा के समर्थकों ने उन्हें काले झंडे दिखाते हुए वापस जाओ के नारे लगाये। इस झड़प के पीछे का कारण पटना साहिब लोकसभा सीट से भाजपा का टिकट आवंटन है।

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पटना में बीजेपी के दो नेताओं के समर्थक आपस में ही भिड़ गए। मंगलवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और सांसद RK Sinha दिल्ली से पटना पहुंचे और पटना एयरपोर्ट पर पहुंचते ही दोनों नेताओं के समर्थक आपस में भिड़ गए।

दरअसल रविशंकर प्रसाद को पटना साहिब सीट दिए जाने को लेकर आरके सिन्हा के समर्थक नाराज थे। दोनों नेताओं के समर्थकों के बीच जमकर लात-घूंसे भी चले। दरअसल, पटना साहिब से रवि शंकर प्रसाद को टिकट मिला है, जबकि आरके सिन्हा भी यहां से उम्मीदवारी की रेस में थे। पटना साहिब लोकसभा सीट से उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद  मंगलवार को जब पहली बार रविशंकर प्रसाद पटना पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए हजारों की संख्या में उनके समर्थक फूल-माला के साथ पटना एयरपोर्ट पर मौजूद थे।

इस बीच वहां पर अचानक अफरा-तफरी का माहौल हो गया जब भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा के समर्थक रविशंकर प्रसाद के समर्थकों के साथ भिड़ गए। दोनों के समर्थकों के बीच मारपीट भी हुई। मौके पर मौजूद पुलिस को लाठियां भी चटकानी पड़ी, तब जाकर लोग शांत हुए।

बता दें कि पटना साहिब सीट से बीजेपी ने रविशंकर प्रसाद को टिकट दिया है जिसको लेकर आरके सिन्हा के खेमे में नाराजगी है। क्योंकि इस सीट से सिन्हा को टिकट दिये जाने की उम्मीद थी। इसके बाद मंगलवार को जैसे ही रविशंकर प्रसाद पटना पहुंचे वहां उनको आरके सिन्हा के समर्थकों ने काला झंडा दिखाया और मामला मारपीट तक जा पहुंचा।

दोनों समर्थकों के बीच हुए हंगामे को लेकर काफी देर तक पटना एयरपोर्ट पर अफरातफरी मची रही। जानकारी के मुताबिक एयरपोर्ट पर मौजूद रविशंकर प्रसाद के समर्थकों ने आर के सिन्हा के समर्थकों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »