Rajiv International में छात्रों ने किया शिक्षकों का अभिनन्दन

मथुरा। Rajiv International स्कूल में गुरुवार को पूर्व राष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती शिक्षक दिवस  के रूप में मनाई गई। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए तथा अपने गुरुजनों का अभिनंदन किया। शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने शिक्षक बनकर कक्षाएं लीं तथा विविध कार्यक्रमों के माध्यम से शिक्षकों का अनुसरण करने का प्रयास किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल द्वारा डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एवं विद्या की आराध्य देवी मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया।

Rajiv International स्कूल में गुरुवार को विविध कार्यक्रमों के माध्यम से शिक्षक दिवस मनाया गया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों और छात्रों के बीच सामंजस्य पैदा करना था। कार्यक्रम का संचालन आंशी, जानकी, उमा, समर्थ, रोहित तथा तन्मय द्वारा किया गया। इस अवसर पर स्कूल प्रबंधन द्वारा शिक्षकों को बधाई देते हुए उन्हें सम्मानित किया गया।

आर.के. एजूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने शिक्षक-शिक्षिकाओं को शिक्षक दिवस की बधाई देते हुए कहा कि शिक्षक होना अपने आप में गर्व और गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि एक मां जहां अपने बच्चों को संस्कारवान बनाती है वहीं शिक्षक बच्चों को शिष्टाचार सिखाते हुए उनका बौद्धिक विकास करते हैं। स्कूल के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने कहा कि शिक्षक का कार्य केवल बच्चों को शिक्षित करना ही नहीं बल्कि उनमें अच्छे गुणों का विकास करना भी है। गुरु के बिना ज्ञान की प्राप्ति असम्भव है। गुरु, शिष्य की न सिर्फ कमियों को दूर करता है बल्कि वह उसके पूरे व्यक्तित्व को निखारता है।

स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने शिक्षक दिवस  की बधाई देते हुए कहा कि बदलते परिवेश में शिक्षकों का कार्य और अधिक विस्तृत हो गया लिहाजा उन्हें छात्र-छात्राओं के सर्वांगीण विकास के लिए सतत प्रयत्न करते रहना चाहिए। श्री ग्रेवाल ने कहा कि अनेक लोग शिक्षा ग्रहण करते हैं पर जो छात्र-छात्राएं गुरु द्वारा दिए जाने वाले ज्ञान को व्यावहारिक रूप से अपने जीवन में उतार लेते हैं वही सफलता के शिखर पर पहुंचते हैं।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *