संस्कृति विश्वविद्यालय में फेयरवेल और फ्रेशर पार्टी में झूमे छात्र-छात्राएं

बीटीसी 2014 बैच के विद्यार्थियों को दी विदाई,
उदय मिस्टर फ्रेशर और अनु बनीं मिस फ्रेशर

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के सेमीनार हाल में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच 2017 बैच के जूनियर बी.टी.सी. विद्यार्थियों ने 2014 बैच के अपने सीनियर भाई-बहनों को विदाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। कार्यक्रम की शुरुआत मां सरस्वती वंदना से हुई। कुलपति डा. देवेन्द्र पाठक, ओ.एस.डी. मीनाक्षी शर्मा, प्राचार्य जया द्विवेदी, डा. धर्मेन्द्र दुबे ने मां सरस्वती को पुष्पार्चन कर 2014 के बी.टी.सी. उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं की सफलता की कामना की। फ्रेशर और फेयरवेल पार्टी में देर शाम तक छात्र-छात्राएं झूमते रहे, उसके बाद उदय को मिस्टर फ्रेशर तथा अनु को मिस फ्रेशर चुना गया।
इस फ्रेशर और फेयरवेल पार्टी में जूनियर्स और सीनियर्स छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर अतिथियों का भरपूर मनोरंजन किया। गीत-संगीत का सिलसिला देर शाम तक चलता रहा। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने सोलो डांस, कविता पाठ, पेपर डांस और ग्रुप डांस आदि की प्रस्तुतियां दीं। विदाई समारोह में जूनियर प्रशिक्षुओं ने सीनियर प्रशिक्षुओं को उपहार भेंट करते हुए कहा कि कठिन परिश्रम और उच्च तकनीकी कौशल के कारण आप लोगों को जल्द ही सफलता मिलेगी। इस अवसर पर सीनियर छात्र-छात्राओं ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि प्रशिक्षण के दौरान संस्कृति विश्वविद्यालय में घर जैसा माहौल मिला। संस्कृति विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण का जो वातावरण मिला उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। हमने अपने प्रशिक्षण काल में अपने सीनियर्स से बहुत सी बातें सीखी हैं। उन्होंने हमें सिखाया कि कॉलेज में कैसे रहा जाए, कैसे सभी के साथ अच्छे संबंध बनाए जाएं।
संस्कृति विश्वविद्यालय के उप-कुलाधिपति राजेश गुप्ता ने अपने संदेश में कहा कि संस्थान का प्रयास हमेशा ही छात्र-छात्राओं का सर्वांगीण विकास है। श्री गुप्ता ने उम्मीद जताई कि पासऑउट सभी छात्र-छात्राएं अपनी दक्षता और कौशल से जीवन के हर क्षेत्र में निरंतर कामयाबी हासिल करेंगे और विश्वविद्यालय परिवार हमेशा गौरवान्वित महसूस करेगा।