पश्चिम बंगाल में पीएम का ममता पर कड़ा प्रहार: कहा, यहां सिंडिकेट की सरकार है

पश्चिम बंगाल। पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पश्चिम बंगाल में अपने भाषण की शुरुआत वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए की। रैली स्थल पर लगाए गए ममता बनर्जी के होर्डिंग का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए ममता खुद हाथ जोड़े मौजूद हैं।
मोदी ने कहा, ‘मैं ममता दीदी का भी बहुत आभारी हूं, क्योंकि मैंने देखा कि उन्होंने मेरे स्वागत में इतने झंडे लगाए हैं। मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। मैं ममता दीदी का इसलिए भी आभार व्यक्त करता हूं क्योंकि वह स्वयं सत्कार करते हुए हाथ जोड़ने की मुद्रा में प्रधानंत्री का स्वागत के लिए मौजूद हैं। उन्होंने चारों तरफ अपने होर्डिंग लगाए हैं।
पीएम ने किसानों के मुद्दों के जरिए राज्य सरकार और विपक्ष पर जमकर हमला बोला। पीएम ने कहा कि किसानों के लिए किसी ने नहीं सोचा है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने किसानों के लिए MSP बढ़ाकर देश के अन्नदाता की आमदनी बढ़ाने का काम किया है। सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए मोदी ने विपक्षी दलों को आड़े हाथों लिया। पीएम ने राज्य सरकार का करारा प्रहार करे हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में पूजा भी करना मुश्किल हो गया है। भ्रष्टाचार का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सिंडिकेट को चढ़ावा दिए बिना यहां काम कराना भी मुश्किल है। पीएम की इस रैली को 2019 चुनाव के लिए अभियान की शुरुआत के रूप में देखा जा रहा है।
मोदी ने आगे कहा कि किसानों के हित में समर्थन मूल्य बढ़ाने का हमने जो इतना बड़ा फैसला किया है उसकी के कारण तृणमूल को उनके स्वागत के लिए झंडे लगाने पड़े।
राज्य में पूजा करना भी मुश्किल, बिना चढ़ावे का कोई काम नहीं
पीएम ने ममता सरकार पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा, ‘राज्य में अब पूजा करना भी मुश्किल हो गया है। राज्य में लोकतंत्र लहूलुहान हो चुका है। क्या इसीलिए लेफ्ट सरकार से मुक्ति पाई थी? क्या इस मुसीबत के लिए लेफ्ट सरकार को हटाया था? वोट बैंक की राजनीति, तुष्टीकरण की राजनीति के कारण बंगाल में सिंडिकेट की सरकार है। बिना चढ़ावे के यहां कोई काम नहीं होता है। कॉलेज में ऐडमिशन लेने के लिए भी चढ़ावा देना होता है। बंगाल में आज लेफ्ट से भी बदतर हालात हैं। राज्य में पंचायत चुनाव भी आतंक और हिंसा के बीच हुए थे।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »