कड़े संकेत, महेंद्र सिंह Dhoni का क्रिकेट करियर खत्म होना तय

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से भारत की हार के बाद महेंद्र सिंह Dhoni का क्रिकेट करियर खत्म होना तय माना जा रहा है। सिलेक्टर्स ने इस बात का कड़ा संकेत दिया है कि टीम इंडिया को 2011 में वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले Dhoni अगर रिटायरमेंट नहीं लेते हैं, तो शायद ही वह टीम इंडिया के लिए कभी खेल सकें। इस बारे में चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद जल्द ही Dhoni से बात भी करने वाले हैं।
विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद जल्द ही Dhoni से बात करेंगे। ऐसा तब होगा जब Dhoni अगर पहले ही अपने फैसले के बारे में प्रसाद को जानकारी नहीं देते।
सूत्रों के अनुसार धोनी सिलेक्टर्स के टी20 वर्ल्ड कप-2020 के प्लान का हिस्सा नहीं हैं इालिए उन्हें सम्मान के साथ इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहना चाहिए। अब वह कभी वह लय हासिल नहीं कर सकते, जो कभी हुआ करते थे।
Dhoni अब नहीं रहे फिनिशर
सूत्रों ने कहा, ‘ऋषभ पंत जैसे युवा क्रिकेटर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। वहीं Dhoni अब पहले जैसे फिनिशर नहीं रहे। 6 या 7 नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरते हैं तो संघर्ष करते दिखाई देते हैं। यह टीम को नुकसान पहुंचा रहा है।’ बता दें कि न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में Dhoni की पारी धीमी रही थी और आखिरी ओवरों में जब गेंद की तुलना में अधिक रन चाहिए थे तो वह आउट हो गए और भारत 18 रन से हार गया।
रिटायरमेंट पर कभी बात नहीं हुई
रोचक बात यह है कि वर्ल्ड कप के बाद रिटायरमेंट लेने जैसे मुद्दों पर कभी सिलेक्टर्स और Dhoni के बीच बात हुई ही नहीं। इस बारे में सूत्र ने बताया कि हम नहीं चाहते थे कि Dhoni का ध्यान भटके। हम चाहते थे कि Dhoni अपना पूरा ध्यान वर्ल्ड कप लगाएं और उसे देश में लाएं लेकिन अब समय बदल गया है। ऐसा कुछ नहीं है, जिसे उन्होंने पाया ना हो और ना ही उन्हें इंटरनेशनल लेवल पर साबित करने की जरूरत है।
क्यों Dhoni को लेना चाहिए संन्यास?
भारतीय क्रिकेट में अहम स्थान रखने वाले एक पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘मुझे विश्वास है कि Dhoni फिर से भारत के लिए नहीं चुने जाएंगे। यह सबसे अच्छा समय है जब वह क्रिकेट को अलविदा कह दें।’
यही नहीं, उन्होंने कहा कि वास्तव में मुझे लगता है कि विराट कोहली की कप्तानी की भी समीक्षा की जा सकती है। यह अभियान किसी भी मानकों से सफल नहीं था। उनकी जवाबदेही तो बनती ही है। बता दें कि धोनी ने 350 वनडे में 50.57 की औसत से 10,773 रन बनाए हैं, जबकि 98 इंटरनेशनल टी-20 में 37.60 की औसत से 1617 रन बनाए हैं।
वॉ का क्या था कहना?
इस बारे में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ का मानना है कि उनके देश में बड़े सितारों को बाहर करने के लिए सर्वश्रेष्ठ चरणबद्ध नीति है जबकि उप महाद्वीप में एक बार खिलाड़ी महान दर्जा हासिल कर ले तो उसके लिए ऐसा करना मुश्किल हो जाता है।
इस पूर्व दिग्गज कप्तान ने कहा, ‘यहां आपको 140 करोड़ लोग फॉलो करते हैं। एक बार खिलाड़ी हिट हुए तो फिर वे व्यक्ति न रहकर महान बन जाते हैं, भगवान बन जाते हैं।’ महेंद्र सिंह धोनी के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भविष्य को लेकर चल रहे विवाद के संदर्भ में जब वॉ से सवाल पूछा गया तो उन्होंने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की संन्यास लेने की नीति के बारे में बात की। उन्होंने कहा, ‘यह दिलचस्प है। ऑस्ट्रेलिया निश्चित रूप से ऐसा करता है। यह मायने नहीं रखता कि आप कौन हो क्योंकि आपको जाना ही होता है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »