उत्तर भारतीयों के खिलाफ नफरत फैलाने के मामले में फंसे कांग्रेसी नेता अल्‍पेश

अहमदाबाद। गुजरात में उत्तर भारतीयों के खिलाफ नफरत फैलाने का आरोप लगने के बाद कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने डैमेज कंट्रोल की कोशिश की है। मंगलवार को मीडिया के सामने आकर अल्पेश ने कहा कि अगर उन्होंने किसी को धमकी दी है तो वह खुद जेल चले जाएंगे। उन्होंने 11 अक्टूबर से सद्भावना उपवास पर जाने की भी बात कही है। आपको बता दें कि नफरत फैलाने वाला एक वीडियो वायरल होने के बाद अल्पेश ठाकोर विवाद में घिर गए हैं। दरअसल, मासूम से रेप के बाद गुजरात से यूपी और बिहार के मजदूरों को पलायन के लिए मजबूर किया जा रहा है और आरोप अल्पेश और उनकी ठाकोर सेना पर है।
राजनीति होगी तो इस्तीफा दे दूंगा..
अल्पेश ने कहा कि सरकार लोगों की सुरक्षा करने में नाकाम है और अब उन्हें बदनाम किया जा रहा है। अल्पेश ने आगे कहा, ‘अगर इस तरह की राजनीति होगी तो मैं इस्तीफा दे दूंगा।’ बेटे की बीमारी का जिक्र करते हुए मीडिया से बातचीत में अल्पेश भावुक भी हो गए। उन्होंने कहा कि गुजरात में सिर्फ एक जगह हिंसा हुई है, जिसकी वह निंदा करते हैं।
कांग्रेस के विधायक ने कहा, ‘मेरा बेटा गंभीर हालत में है। मेरे लिए वही मेरी ताकत है। उसे कुछ हुआ तो सब छोड़ दूंगा। मेरे बेटे की तरह दूसरे बेटों की परेशानियां देखता हूं तो दुखी हो जाता हूं। मैं इसलिए तीन दिन से मीडिया में नहीं आ रहा था क्योंकि मेरा बेटा अस्पताल में है।’
‘… तो मैं बिहार चला जाऊंगा’
अल्पेश ने कहा, ‘गुजरात में सिर्फ एक जगह हिंसा हुई है और मैं इसकी निंदा करता हूं। अगर मैंने किसी को धमकी दी है तो मैं जेल जाऊंगा। गुजरात हर किसी के लिए है। यह जितना आपका है, उतना ही मेरा भी है।’ अल्पेश ने आगे कहा, ‘अगर इसी तरह होता रहेगा तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। मुझे नहीं चाहिए ऐसी विधायकी। मैं बिहार चला जाऊंगा और वहीं से लडूंगा।’ अल्पेश ने यह भी कहा कि वह बिहार के व्यापारी हैं इसलिए उनके साथ साजिश हो रही है। उन्हें बदनाम किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि गुजरात में हालात देखकर लग रहा है कि सरकार तो यहां नाकाम है इसलिए ठाकोर समाज को लोगों की रक्षा करनी होगी।
‘राहुल गांधी को मुझ पर यकीन’
अल्पेश ने कहा, ‘मैं राजनीति कर रहे लोगों से कहना चाहता हूं कि गरीब लोगों को मत जुदा कीजिए। मैं उनके लिए लड़ा हूं और मेरे साथ यह व्यवहार किया जा रहा है। यह मेरे समुदाय को बदनाम करने की साजिश है।’ पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस के लिए अल्पेश ने कहा, ‘राहुल गांधी को मुझ पर यकीन है। उन्हें पता है कि मैं हिंसा नहीं करवा सकता। मेरे पास उनका फोन आया था। उन्होंने मुझसे मेरे बेटे की तबीयत के बारे में पूछा। वह मानवीय गुणों से भरे हुए हैं।’
कांग्रेस को झेलनी पड़ रही शर्मिंदगी
बता दें कि गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले और पलायन के पीछे कांग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर का नाम सामने आ रहा है। उत्तर भारत खासतौर से यूपी और बिहार से आए ‘बाहरियों’ के विरोध की शुरुआत अल्पेश ने ही की थी। खास बात यह है कि वह कांग्रेस पार्टी के बिहार प्रभारी भी हैं। हालात नियंत्रण से बाहर होने के कारण अल्पेश की रणनीति बैकफायर कर गई और अब उनकी पार्टी को शर्मिंदगी झेलनी पड़ रही है।
ऐसे में उनकी पार्टी ही नहीं, दोस्तों- पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को भी कहना पड़ा है कि अगर हिंसा के पीछे अल्पेश का हाथ है तो उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए।
अल्पेश ने दिए थे नफरत फैलाने वाले बयान
गांधीनगर में सोमवार को पुलिस ने कांग्रेस के नेता महोत ठाकोर को गिरफ्तार कर लिया, जो ठाकोर सेना के भी सदस्य हैं जिसके चीफ अल्पेश ही हैं। महोत और चार अन्य लोगों को धमकी भरा एक वीडियो वायरल होने के बाद गिरफ्तार किया गया है, जिसमें वे यूपी, बिहार के लोगों को गांव छोड़ने की धमकी देते दिखाई देते हैं। आपको बता दें कि करीब एक हफ्ते पहले अल्पेश ने सार्वजनिक रूप से नफरत फैलाने वाला बयान देते हुए कहा था, ‘प्रवासियों के कारण अपराध बढ़ गया है। उनके कारण, मेरे गुजरातियों को रोजगार नहीं मिल रहा है। क्या गुजरात ऐसे लोगों के लिए है?’
मासूम से रेप के बाद उत्तर भारतीयों को धमकी
गुजरात के साबरकांठा में 28 सितंबर को 14 महीने की मासूम से रेप में बिहार से आए एक कामगार का नाम सामने आने के बाद से गुजरातियों के निशाने पर यूपी और बिहार के लोग हैं। कई उत्तर भारतीयों पर हमले हुए हैं। दावा है कि यूपी और बिहार से दो जून की रोटी कमाने गुजरात गए 50,000 से ज्यादा लोगों को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा।
उत्तर भारतीयों पर बढ़े हमलों पर गुजरात के डीजीपी शिवानंद झा ने बताया है कि अबतक कुल 51 केस दर्ज किए गए हैं और 431 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। यूपी-बिहार के लोगों के साथ हिंसा के इन मामलों से गुजरात के कुल 6 जिले प्रभावित हुए हैं। मेहसाणा में 15 केस दर्ज हुए हैं जिसके तहत 89 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »