राजीव इंटरनेशनल स्कूल में कृष्‍ण Janmashtami की धूम

मथुरा। राजीव इंटरनेशनल स्कूल में नेहरू सदन की ओर से जन्माष्टमी पर्व का उत्सव बड़े धूमधाम के साथ मनाया गया। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का शानदार मंचन कर सबकी वाहवाही लूटी। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कार्यक्रम का शुभारम्भ स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल द्वारा माँ सरस्वती एवं श्रीकृष्ण की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम का संचालन एलिना और अनुष्का द्वारा किया गया।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कार्यक्रम में किंडर गार्डन के नन्हें-मुन्नों ने अपने नयनाभिराम नृत्य से सभी का मन मोह लिया। सदन के छात्र-छात्राओं द्वारा नृत्य के माध्यम से श्रीकृष्ण की अनेक बाल लीलाओं का मंचन किया गया। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने कविता एवं भाषण के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण के जीवन दर्शन पर प्रकाश डाला।

आर.के. एजूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने शिक्षकों और छात्र-छात्राओं को जन्माष्टमी पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें श्रीकृष्ण की तरह कर्म पर महत्व देना चाहिए। कर्म ही पूजा है और कर्म से ही अच्छे व्यक्तित्व का निर्माण सम्भव है। डा. अग्रवाल ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने मानव समाज को प्रेम का संदेश दिया है।

स्कूल के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने कहा कि हम सभी उस भूमि पर निवास कर रहे हैं जहाँ की रज कृष्णमय है, यहां प्रभु श्रीकृष्ण ने जन्म लिया और अपनी बाल लीलाओं से सभी को मंत्रमुग्ध किया। सच कहें तो श्रीकृष्ण ने अपनी बुद्धि, विवेक और कौशल से सभी के दिलों पर राज किया। दोस्ती हो, प्रेम हो या रणक्षेत्र हर क्षेत्र में भगवान श्रीकृष्ण ने समाज को एक संदेश दिया है।

स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने जन्माष्टमी पर्व की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि श्रीकृष्ण मनुज नहीं अवतारी थे। उन्होंने गीता के द्वारा सभी विधाओं को प्राचीनकाल में ही स्पष्ट कर दिया था। श्रीकृष्ण के कर्म और वचन आज के समय में भी जनमानस के लिए नेक संदेश हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व हमें याद दिलाता है कि हमारे सभी कर्म मानवता के हित में हों।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *