वर्ल्ड स्माइल डे पर विशेष: मुस्कुराओ और दूसरों की मुस्कुराहट का कारण बनो

आज 5 अक्टूबर को दुनियाभर में वर्ल्ड स्माइल डे मनाया जा रहा है। अक्टूबर महीने के पहले शुक्रवार को हर साल वर्ल्ड स्माइल डे मनाया जाता है। मुस्कुराओ और दूसरों की मुस्कुराहट की वजह भी बनो। मुस्कुराने के कई फायदे हैं, जिन्हें मेडिकल साइंस भी मान चुका है। विशेषज्ञों की मानें तो मन से मुस्कुराने से दिमाग में डोपामाइन हॉर्मोंस पैदा होता है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। मुस्कुराने से दिल की बीमारी, डिप्रेशन, ब्लड प्रेशर जैसी कई गंभीर बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है। यह एक तरह का व्यायाम है, जो हमारी उम्र को बढ़ा देता है।
मुस्कुराने से बीमारियों का खतरा कम
लखनऊ स्थित पीजीआई के हार्ट सर्जन प्रफेसर निर्मल गुप्ता कहते हैं, ‘मुस्कुराने से हमारे दिमाग में डोपामाइन हॉर्मोंस रिलीज होता है। इससे हार्ट अटैक, डायबीटीज, इंफेक्शन समेत कई बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है। साथ ही लोगों में कलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है इसलिए दूसरों को खुश करने के लिए नहीं बल्कि अपने खुद के भले के लिए मन से मुस्कुराइए।’
मुस्कुराने से आती पॉजिटिव थिंकिंग
तो वहीं, केजीएमयू के मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ जमाल मसूद कहते हैं, ‘मुस्कुराहट हर मर्ज की दवा है। इससे पूरे बॉडी की मांसपेशियां प्रभावित होती है जिससे लोगों के अंदर पॉजिटिव थिंकिंग आती है।’ पीजीआई के न्यूरोलॉजिस्ट प्रफेसर सुनील प्रधान कहते हैं, ‘मुस्कुराने से लोगों के दिमाग में न्यूरो ट्रांसमीटर केमिकल पैदा होता है जो बीमारियों को पैदा करने वाले हॉर्मोंस से लड़ता है।’
तनाव पैदा करने वाले हॉर्मोन्स कम होते हैं
बीआरडी अस्पताल के पीडियाट्रिक विभाग के डॉक्टर मनीष शुक्ला की मानें तो मुस्कुराने से चेहरे की 53 मांसपेशियां तक प्रभावित होती हैं, जो शरीर के अंदर तनाव पैदा करने वाले हॉर्मोंस को कम करती हैं। इससे हमारी उम्र और बढ़ जाती है इसलिए मुस्कुराते रहना चाहिए ताकि बीमारियां दूर हो सकें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »