दक्षिण अफ्रीका ने भारत को जीत के लिए 228 रनों का लक्ष्‍य दिया

साउथैम्पटन। भारत के साथ साउथैम्टन में खेले जा रहे मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। अपने शुरुआती दो मैच गंवाने वाली अफ्रीकी टीम के लिए ये फैसला गलत साबित हुआ और निर्धारित 50 ओवर में 9 विकेट पर 227 रन ही बना सकी। भारतीय गेंदबाजों ने अफ्रीकी गेंदबाजों के खिलाफ कहर ढाते हुए शानदार शुरुआत की बुमराह ने शुरुआत झटके देते हुए 24 रन पर 2 विकेट पर ला पटका। इसके बाद चहल और कुलदीप यादव ने कहर ढाते हुए मध्यमक्रम की रीढ़ तोड़ दी। इसी वजह से मुंबई की टीम महज 227 रन बना सकी।
दक्षिण अफ्रीका के कप्‍तान फॉफ डु प्‍लेसिस ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी का फैसला किया। दक्षिण अफ्रीका के लिए पारी की शुरुआत करने हाशिम अमला और क्विंटन डिकॉक की जोड़ी उतरी लेकिन दोनों ही अपनी टीम को अच्छी शुरुआत नहीं दे सके। छठवें ओवर में ही ये जोड़ी वापस पवेलियन लौट गई। एक समय दक्षिण अफ्रीका ने 7 विकेट 158 के स्कोर पर गंवा दिए थे। ऐसे में क्रिस मॉरिस और कगिसो रबाडा ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए आठवें विकेट के लिए 59 गेंद में 66 रन की साझेदारी करते हुए टीम को 227 के स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की।
मॉरिस-रबाडा ने कराई दक्षिण अफ्रीका की वापसी
40वें ओवर में 158 के स्कोर पर सात विकेट गंवाने के बाद क्रिस मॉरिस और कगिसो रबाडा ने अफ्रीकी पारी की संभाला। पहले तो दोनों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए टीम को 200 के स्कोर के पार पहुंचाया। दोनों नें तेजी से बल्लेबाजी करते हुए 46 गेंद में आठवें विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी भी पूरी की। दोनों ने आठवें वितेट के लिए 66 रन की साझेदारी की और अपनी टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। मॉरिस अंत में 34 गेंद में 42 रन बनाने में सफल रहे। वहीं रबाडा अंत में 31 रन बनाकर नाबाद रहे।
नहीं चला किलर मिलर का जादू
पांच विकेट गंवाने के बाद डेविड मिलर ने फेलुकवायो के साथ मिलकर दक्षिण अफ्रीका की पारी को संभालने की कोशिश की। दोनों के बीच छठे विकेट के लिए 46 रन की साझेदारी हुई। लेकिन 135 के स्कोर पर मिलर फॉलो थ्रू पर चहल के हाथों लपके गए और ये साझेदारी टूट गई। मिलर का जादू एक बार फिर नहीं चला और वो 40 गेंद पर 31 रन की पारी खेलकर पवेलियन वापस लौट गए। यह चहल का इस पारी में लिया तीसरा विकेट था। इसके बाद चहल ने फेलुकवायो को भी ज्यादा देर पिच पर नहीं टिकने दिया। वो चहल की गेंद पर स्टंपिंग हो गए। फेलुकवायो ने 61 गेंद में 34 रन बनाए।
चहल ने तोड़ी डुप्लेसी-डसेन की साझेदारी
युजवेंद्र चहल ने दक्षिण अफ्रीका को खराब शुरुआत के बाद संभालने वाली फॉफ डुप्लेसी और डसेन की साझेदारी को 20वें ओवर की पहली गेंद पर तोड़ दिया। पहले तो चहल ने डसेन को बोल्ड कर दिया उन्होंने रिवर्स स्वीप खेलने की कोशिश की और गच्चा खाकर बोल्ड हो गए। इसके बाद इसी ओवर की आखिरी गेंद पर डुप्लेसी भी चहल की फिरकी पर गच्चा खाकर बोल्ड हो गए। 24 रन पर 2 विकेट से गंवाने के बाद डुप्लेसी और डसेन ने 14.1 ओवर में दक्षिण अफ्रीकी टीम को 50 रन के पार पहुंचाया। दोनों ने 68 गेंद पर तीसरे विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी पूरी की। दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 54 रन की साझेदारी हुई। डुप्लेसी ने 54 गेंद में 38 और डसेन ने 37 गेंद पर 22 रन की पारी खेली। इसके बाद कुलदीप यादव ने 23वें ओवर की आखिरी गेंद पर जेपी डुमिनी को एलबीडब्ल्यू कर पवेलियन वापस भेज दिया। फील्ड अंपायर के इस फैसले के खिलाफ डुमिनी ने डीआरएस का इस्तेमाल किया लेकिन फैसला नहीं बदला और उन्हें 11 गेंद पर महज 3 रन बनाकर पवेलियन वापस लौटना पड़ा।
बुमराह ने दिए दक्षिण अफ्रीका को दोहरे झटके
जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी करते हुए चौथे ओवर में बड़ा झटका देते हुए हाशिम अमला को चलता कर दिया। अमला ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद पर बल्ला अड़ा बैठे और स्लिप पर रोहित शर्मा ने कैच लेने में कोई गलती नहीं की। चोट के उबरकर वापसी करने वाले अमला 9 गेंद में 6 रन बना सके। इसके बाद बुमराह की गेंदों पर लगातार संघर्ष कर रहे दूसरे ओपनर क्विंटन डिकॉक स्लिप पर विराट कोहली के हाथों पारी के छठवें ओवर की पांचवीं गेंद पर लपके गए। डिकॉक 17 गेंद पर 10 रन बना सके।
दोनों टीमें साउथैम्पटन के द रोज बाउल स्टेडियम में आमने-सामने हैं। भारत की अगुवाई विराट कोहली कर रहे हैं जबकि अफ्रीकी टीम की कमान फाफ डुप्लेसिस के हाथों में है। खिताब की प्रबल दावेदारों की फेहरिस्त में शुमार भारतीय टीम का यह पहला मैच है वहीं दक्षिण अफ्रीका का तीसरा मैच है। हालांकि, दो मैच खेल चुकी अफ्रीकी टीम को अभी तक जीत नसीब नहीं हुई है। पहले मैच में मेजबान इंग्लैंड ने उसे हराया जबकि दूसरे मैच में उसे बांग्लादेश ने मात दे दी थी।
दक्षिण अफ्रीका ने किए टीम में दो बदलाव
दोनों ही टीमों ने 2-2 स्पिन गेंदबाजों को टीम शामिल किया है। टीम इंडिया में जहां कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल हैं। वहीं दक्षिण अफ्रीकी टीम में इमरान ताहिर और तबरेज शम्सी को जगह मिली है। टीम इंडिया में मोहम्मद शमी की जगह भुवनेश्वर कुमार को मौका दिया जाना कई लोगों के लिए चौंकाने वाला फैसला है। वहीं दक्षिण अफ्रीकी टीम में चोटिल लुंगी नगिडि शामिल नहीं हैं। वहीं हाशिम अमला चोट से उबरकर टीम में वापसी करने में सफल रहे हैं। इस वजह से पिछला मैच खेलने वाले एडेन मार्कराम को टीम से बाहर जाना पड़ा है।
दक्षिण अफ्रीका का मनोबल इंग्लैंड और बांग्लादेश से हारकर टूटा हुआ है जो भारत के लिहाज से देखा जाए तो अच्छी बात है। अफ्रीकी टीम की हालत इस बात से और भी खराब हो गई कि डेल स्टेन कंधे की चोट से उबर नहीं सके और वह विश्व कप से बाहर हो गए। टीम प्रबंधन को उम्मीद थी कि स्टेन भारत के खिलाफ मैच से पहले फिट हो जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं हो सका। स्टेन की जगह बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ब्यूरॉन हेंड्रिक्स को शामिल किया गया है। इसके अलावा दक्षिण अफ्रीका तेज गेंदबाज लुंगी नगिडी की कमी भी खलेगी। वह मांसपेशियों में खिंचाव के कारण 10 दिन तक बाहर रहेंगे। नगिडी को बांग्लादेश के खिलाफ मैच में यह शिकायत हुई थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *