सोनिया ने एक बार फिर दी पार्टी नेताओं को अनुशासन में रहने की नसीहत

नई दिल्‍ली। कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने एक बार फिर पार्टी नेताओं को हिदायत दी है। उन्‍होंने मंगलवार को महासचिवों, प्रदेश प्रभारियों और राज्य इकाइयों के अध्यक्षों की बैठक ली। बैठक का एजेंडा पार्टी के सदस्यता अभियान, महंगाई को लेकर शुरू होने वाले जन-जागरण अभियान और कुछ राज्यों में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारियों पर चर्चा करना था। हालांकि सोनिया ने अपने शुरुआती संबोधन में नेताओं को अनुशासन में रहने की नसीहत दे डाली। सोनिया ने कहा कि ‘निजी महत्‍वाकांक्षाओं से ऊपर उठते’ हुए पार्टी को मजबूत करने पर सबका ध्‍यान होना चाहिए।
RSS/BJP से लड़ना होगा: सोनिया
सोनिया ने कहा कि ‘हमें वैचारिक रूप से भाजपा/आरएसएस के द्वेषपूर्ण अभियान से लड़ना होगा। अगर हमें इस लड़ाई को जीतना है तो हमें दृढ़ विश्वास के साथ ऐसा करके लोगों के सामने उनके झूठ का पर्दाफाश करना चाहिए।’ उन्‍होंने कहा, ‘हमारा अपना इतिहास इस बात का गवाह है कि अगर किसी संगठन को अन्याय और असमानता के खिलाफ सफल होना है, अगर उसे हाशिए पर पड़े लोगों के अधिकारों की प्रभावी रूप से हिमायत करनी है, तो उसे जमीनी स्तर पर एक व्यापक आंदोलन खड़ा करना होगा।’
बैठक में कौन-कौन हुआ शामिल?
पार्टी मुख्यालय में हुई इस बैठक में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल तथा अन्य महासचिव, प्रभारी एवं प्रदेश कांग्रेस कमेटियों के अध्यक्ष शामिल हुए। पिछले 16 अक्टूबर को हुई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में संगठनात्मक चुनाव का कार्यक्रम तय करने के साथ ही यह निर्णय लिया गया था कि आगामी एक नवंबर से कांग्रेस सदस्यता अभियान चलाएगी, जो अगले साल 31 मार्च तक चलेगा। इसके साथ ही फैसला हुआ था कि 14 से 29 नवंबर के बीच महंगाई के मुद्दे पर कांग्रेस की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर जन-जागरण अभियान चलाया जाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *