Somnath Chatterjee की हालत बिगड़ी

कोलकाता। एक निजी अस्पताल में भर्ती पूर्व लोकसभा अध्यक्ष Somnath Chatterjee की हालत बिगड़ गई है। उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया है।

उम्रजनित बीमारियों को लेकर महानगर के एक निजी अस्पताल में भर्ती पूर्व लोकसभा अध्यक्ष Somnath Chatterjee की हालत बिगड़ गई है।
अस्पताल सूत्रों के मुताबिक गुरुवार रात से सोमनाथ चटर्जी की हालत में अवनति हुई है।

गौरतलब है कि गत 28 जून को मस्तिष्क रक्स्राव के बाद चटर्जी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके इलाज के पांच सदस्यीय मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया है, जो उनकी हालत पर कड़ी निगरानी रख रहा है।

सोमनाथ चटर्जी भारतीय राजनीति की एक विशेष हस्ती हैं। वह मशहूर वकील और हिंदू महासभा के संस्थापक अध्यक्ष निर्मलचंद्र चटर्जी के पुत्र हैं। सोमनाथ चटर्जी लोकसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं।

एक बार सोमनाथ चटर्जी लोकसभा में बीजेपी के खिलाफ कुछ बोल रहे थे। इस पर सुषमा स्वराज ने टोकते हुए कहा कि चटर्जी साहब, आप याद रखें कि आपके पिताजी ने आपका नाम सोमनाथ रखा था जिस नाम का मशहूर मंदिर है इस देश में। इस पर उस समय थोड़ी देर के लिए ऐसा लगा कि सोमनाथजी का बीजेपी के प्रति रोष थोड़ा कम हो गया।

याद रहे कि आम तौर पर सीपीएम के किसी नेता का भाषण बीजेपी की आलोचना के बिना पूरा नहीं होता।

यह तो हुआ नाम और पार्टी में विरोधाभास। पर एक समय उनके पिताश्री निर्मल चंद्र चटर्जी ने तो और भी कमाल कर किया था।

दिवंगत चटर्जी अखिल भारतीय हिंदू महासभा के संस्थापक अध्यक्ष थे. फिर भी उन्होंने कम्युनिस्टों की रिहाई के लिए अभियान चलाया था। कहां हिंदू महासभा और कहां कम्युनिस्ट! दो छोर एक जगह मिले थे पर सवाल नागरिकों के अधिकार का जो था।

सन 1948 में जब केंद्र सरकार ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पर प्रतिबंध लगाया और कम्युनिस्टों को गिरफ्तार करना शुरू किया तो उसका विरोध करने के लिए एनसी चटर्जी ने आॅल इंडिया सिविल लिबर्टी यूनियन बना लिया। चटर्जी सीनियर तब कोलकाता हाईकोर्ट के नामी वकील थे. यूनियन के जरिए उन्होंने कम्युनिस्टों की रिहाई के लिए जोरदार अभियान चलाया।

उसी दौरान ज्योति बसु का इस चटर्जी परिवार से लगाव बढ़ा।

हालांकि Somnath Chatterjee सन 1968 में सीपीएम के सदस्य बने। ज्योति बसु का सोमनाथ चटर्जी पर स्नेह बना रहा।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *