रिश्ते के लिए खतरा पैदा कर सकती हैं कुछ बातें

प्यार और रोमांस सिर्फ एक-दूसरे के साथ घूमने या फिर गिफ्ट्स, शॉपिंग तक ही सीमित नहीं है। प्यार का मतलब है कि आप एक-दूसरे को समझें, खुश रहें और क्वॉलिटी टाइम बिताएं, लेकिन कुछ बाते हैं, जो आपके रिश्ते के लिए खतरा पैदा कर सकती हैं। आइए जानते हैं कि वे क्या हैं?
सपनों का राजकुमार/राजकुमारी नहीं मिली
अपने पार्टनर को लेकर कई बार हम कई तरह के सपने बुन लेते हैं। मसलन वह अच्छा, स्मार्ट और खूबसूरत हो। हमारा हमेशा ख्याल रखे, खूब प्यार करे आदि, लेकिन जब पार्टनर वैसा नहीं मिलता तो रिश्तों में दूरियां आनी शुरू हो जाती हैं। आप उम्मीद करते हैं कि आपका पार्टनर आपके लिए बदले, लेकिन आपको समझने की ज़रूरत है कि कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं होता, वह अपने-आप में बेहतर होता है। इसलिए अपने पार्टनर को बिल्कुल भी बदलने की कोशिश न करें।
पब्लिक प्लेस पर प्यार? हो जाएं सावधान
आमतौर पर कई कपल पब्लिक प्लेस पर प्यार जताने लगते हैं। वे किस करेंगे या फिर चिपककर चलेंगे नहीं तो सटकर खड़े रहेंगे लेकिन आपका यह सार्वजनिक प्यार लोगों को असहज तो करता ही है, खुद आपके रिश्ते में भी कुछ खास नहीं बचता।
सीधी-सी बात है कि अगर सारा प्यार पब्लिक प्लेस पर ही दिखा दोगे, तो फिर बाद के लिए क्या बचाकर रखोगे?
आप घूमें तो सही और पार्टनर घूमे तो गलत?
अगर आप हमेशा अपने पार्टनर की अटेंशन चाहते हो और यह उम्मीद रखते हो कि वह आपको ही टाइम दे तो आप बहुत गलत कर रही हैं। आपको समझने की ज़रूरत है कि आपके पार्टनर की भी सोशल लाइफ है। उसकी ज़िंदगी में और भी लोग हैं। जिस तरह आपको अपने दोस्तों के साथ घूमने-फिरने और पार्टी का शौक है, वैसे ही अगर आपके पार्टनर का शौक है, तो क्या गुरेज है? याद रखें कि आपके पार्टनर की भी अपनी एक पर्सनल स्पेस है।
एक्स से पार्टनर की तुलना? कभी नहीं
कभी भी अपने एक्स की तुलना अपने पार्टनर से न करें यानी जो खूबियां आपके एक्स में रहीं, उन्हें अपने पार्टनर में न तलाशें वरना आपका जो रिश्ता है, उससे खुशियां तो चली ही जाएंगी, शायद वह रिश्ता भी न टिक पाए। इसलिए आपके पार्टनर में जो खूबियां हैं, उन्हें पहचानें और तरजीह दें। याद रखिए, अपने पार्टनर के लिए आप पूरी दुनिया हैं।
मैं क्यूं मनाऊं, वही मनाएगा मुझे
झगड़े हर कपल के बीच होते हैं, लेकिन कुछ कपल तो उन्हें आपस में बातचीत कर सुलझा लेते हैं पर कुछ कपल अपनी ईगो के चलते मुंह फुलाए रहते हैं। जैसे कि अगर आपका पार्टनर से झगड़ा हुआ है तो आप उम्मीद करते हैं कि वह आपको आकर मनाए और खुद ही बात शुरू करे। अगर वह ऐसा नहीं करता है तो आप तब भी पहल नहीं करते..यह सोचकर कि वही आपको मनाएगा। इस आदत को आप तुरंत बदल डालें। रिश्ते में खटास की नींव यहीं से पड़नी शुरू हो जाती है।
​हमसफर बनें, जासूस नहीं
रिश्ता चाहे कोई भी हो, वह आपसी विश्वास से चलता है और जहां यह नहीं, समझो रिश्ता नहीं। अपने पार्टनर को पूरी स्पेस दें। अगर उसका फोन चेक करने या फिर उसकी जासूसी करने की आदत है तो जरा संभल जाएं, वरना लेने के देने पड़ जाएंगे। रिश्ते डोर जैसे नाजुक होते हैं। ज़रा भी खींचे तो टूट जाएंगे और फिर शायद ही संभल पाएं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »