Jammu-Kashmir में शीघ्र ही देखने को मिल सकता है कुछ अहम घटनाक्रम: सूत्र

Fax Message of home ministry
Fax Message of home ministry

श्रीनगर। सरकार की गतिविधियां बताती हैं कि शीघ्र ही Jammu-Kashmir में कुछ अहम घटनाक्रम देखने को मिल सकता है।
पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर आतंकी हमले के बाद से Jammu-Kashmir में हलचल है।
केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में कई मोर्चों पर मुस्तैदी दिखाते हुए एक तरफ कट्टरवादियों की नकेल कसी है तो दूसरी ओर फोर्स की तैनाती में भी इजाफा किया है। सूबे को हाई अलर्ट पर रखा गया है।
शुक्रवार की शाम को घाटी में सक्रिय अलगाववादी नेता यासीन मलिक को हिरासत में लिया गया है और जमात-ए-इस्लामी के करीब दर्जन भर नेताओं को अरेस्ट किया गया है। एक तरफ सरकार पुलवामा अटैक से जुड़े आतंकियों पर शिकंजा कसने की कोशिश में है तो दूसरी तरफ 35A जैसे संवेदनशील मसले पर सोमवार से शुरू हो रही सुनवाई को लेकर भी तैयारियां की जा रही हैं।
सुप्रीम कोर्ट की ओर से यदि 35A को हटाने या फिर उसमें बदलाव जैसा आदेश आता है तो कट्टरपंथियों की ओर से घाटी में बवाल की आशंका है। ऐसे में सरकार ने ऐहतियात के तौर पर उन्हें गिरफ्तार करने या फिर नजर रखने जैसे कदम उठाए हैं।
अर्धसैनिक बलों की 100 अतिरिक्त कंपनियां भेजीं
इसी के मद्देनजर सरकार ने जम्मू-कश्मीर में तत्काल प्रभाव से अर्धसैनिक बलों की 100 अतिरिक्त कंपनियों को तैनात किया है। इनमें 45 सीआरपीएफ, 35 बीएसएफ, 10 एसएसबी और 10 आईटीबीपी की कंपनियां शामिल हैं।
सहमा पाकिस्तान भी तैयारियों में जुटा
एक तरफ भारत ने सीमा समेत पूरे राज्य में निगरानी बढ़ा दी है तो सीमा पार पाकिस्तान भी युद्ध जैसी कार्यवाही के डर से सहमा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हाल ही में पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने एलओसी का दौरा किया और हालात का जायजा लिया। पाकिस्तान ने अपने कब्जे वाले कश्मीर के लोगों को बेवजह से घरों से बाहर निकलने और रात में लाइटें तक न जलाने की हिदायत दी है। यही नहीं, पाकिस्तान के F-16S लड़ाकू विमानों ने भी उड़ानें भरीं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »