…तो Liver की नियमित जांच करवाना बेहद जरूरी है

अगर आप मोटापे का शिकार हैं या फिर डायबीटीज के मरीज हैं या फिर नियमित रूप से शराब का सेवन करते हैं तो आपके लिए बेहद जरूरी है कि आप नियमित रूप से अपने Liver की जांच करवाते रहें।
ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि खराब लाइफस्टाइल का सबसे ज्यादा असर शरीर के Liver पर पड़ता है और इस वजह से बिना कोई खास लक्षण के सामने आए बिना ही बड़ी संख्या में लोगों का लिवर अनहेल्दी और बीमार हो रहा है।
मिडिल एज्ड महिलाओं और पुरुषों के लिवर की हुई जांच
साल 2018 से 2019 के बीच दिल्ली स्थित इंस्टिट्यूट ऑफ लिवर एंड बाइलरी साइंसेज (ILBS) ने शहर भर में 200 मोबाइल हेल्थ कैंप्स लगाए और मोहल्ला क्लीनिक तथा पॉलिक्लिनिक में औसतन 46 साल के आसपास के पुरुषों और महिलाओं के लिवर की जांच की है और यह जानने की कोशिश की उनमें Liver फाइब्रॉसिस की दिक्कत है या नहीं। यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें लिवर के टीशू में लंबे समय तक चोट या जलन की वजह से घाव हो जाता है जिससे Liver पूरी तरह से डैमेज हो सकता है।
3 में से 1 व्यक्ति को लिवर फाइब्रोसिस की दिक्कत
इस स्क्रीनिंग के दौरान ये नतीजे सामने आए की करीब 35.5 प्रतिशत यानी एग्जैमिन किए गए हर 3 में से 1 व्यक्ति को Liver फाइब्रॉसिस था। इनमें से 14 प्रतिशत लोगों का Liver फाइब्रॉसिस तो एडवांस स्टेज में पहुंच चुका था। ऐसे लोगों का अगर समय पर इलाज न किया जाए तो उनका लिवर हमेशा के लिए डैमेज हो सकता है। वहीं, 3 प्रतिशत लोगों में लिवर सिरॉसिस की बीमारी पायी गई। ILBS में एपिडेमोलॉजी की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अर्चना रस्तोगी कहती हैं, ‘जिन लोगों में लिवर फाइब्रॉसिस की बीमारी का पता चला था उन्हें नजदीकी मोहल्ला क्लिनिक या पॉलिक्लिनिक में मेडिकल ऑफिसर के पास आगे के इलाज के लिए रेफर किया गया।’
Liver से जुड़ी खतरनाक बीमारियों के लिए जागरुकता जरूरी
ILBS के इस स्क्रीनिंग प्रोग्राम में 7 हजार 624 लोगों की जांच की गई। इनमें से 804 लोगों ने शराब का सेवन करने की बात स्वीकारी। ILBS के डायरेक्टर डॉ एस के सरीन कहते हैं, यह स्टडी इस बात को हाइलाइट करती है कि क्रॉनिक Liver डिजीज को लेकर लोगों के बीच जागरुकता लाने की जरूरत है ताकि Liver सिरॉसिस या फाइब्रॉसिस की बीमारी के खतरे से लोगों को अवगत कराया जा सके। डॉ. सरीन आगे कहते हैं, एल्काेहॉल का सेवन करने वाले, डायबीटीज के मरीज और दूसरी मेटाबॉलिक बीमारियों से पीड़ित लोग हाई रिस्क ग्रुप में आते हैं और ऐसे लोगों में Liver से जुड़ी बीमारी का जल्दी पता लगाया जा सके, इसके लिए स्ट्रैटजी बनाने की जरूरत है।
हेपेटाइटिस के साथ एल्कॉहॉल और मोटापा भी जिम्मेदार
डॉक्टर कहते हैं कि 2 से 3 दशक पहले तक हेपेटाइटिस को ज्यादातर Liver से जुड़ी बीमारियों के लिए जिम्मेदार माना जाता था। हेपेटाइटिस की वजह से Liver की बीमारियों में इजाफा नहीं हुआ है लेकिन मोटापा, ऐल्कॉहॉल का सेवन और डायबीटीज की वजह से Liver से जुड़ी बीमारियों के मामले काफी बढ़ गए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *