पाकिस्‍तान ने सीमा पर तैनात किए स्‍नाइपर और BAT जवान

श्रीनगर। जम्‍मू-कश्‍मीर में भारतीय सेना की कार्यवाही से बौखलाए पाकिस्‍तान ने सीमा पर बड़ी संख्‍या में स्‍नाइपर और कुख्‍यात बॉर्डर ऐक्‍शन टीम (BAT) के जवानों को तैनात किया है। सैटलाइट से मिले चित्रों में यह साफ नजर आ रहा है कि पाकिस्‍तानी सीमा में आतंकवादी लॉन्‍च पैड बढ़ गए हैं। पाकिस्‍तान ने यह कदम भारत के गणतंत्र दिवस से ठीक पहले उठाया है। माना जा रहा है कि पाकिस्‍तानी स्‍नाइपर और बैट जवान भारतीय सुरक्षा बलों पर बड़े हमले की ताक में हैं।
सुरक्षा सूत्रों ने बताया कि पिछले कुछ महीनों में भारतीय सुरक्षा बलों ने कई आतंकवादियों को मार गिराया है। इसी को देखते हुए अब पाकिस्‍तान ने अपना पैंतरा बदला है और बैट तथा स्‍नाइपर हमले की ताक में है। पाकिस्‍तान की साजिश में कश्‍मीर के कुपवाड़ा का रहने वाला मोहम्‍मद अशरफ मदद कर रहा है। वह इस समय पाक अधिकृत कश्‍मीर में है। पाकिस्‍तान उसकी मदद से तंगधार इलाके में फिदायिन हमले करना चाहता है।
उन्‍होंने बताया कि पाकिस्‍तान 26 जनवरी से पहले बैट सह स्‍नाइपर अटैक करना चाहता है। पाकिस्‍तान के निशाने पर भारत की अग्रिम चौकियां हैं। इसी को देखते हुए वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर उसने बैट जवानों और स्‍नाइपर को तैनात किया है। पाकिस्‍तान की इस साजिश के बारे में पता चलने पर सीमा पर सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट कर दिया गया है।
पाकिस्‍तानी आतंकवादियों की गतिविधियों को नियंत्रण रेखा पर कम से कम 3 सेक्‍टरों में देखा गया है। ये पाकिस्‍तानी आतंकी और जवान चुपके से भारतीय सीमा में घुसकर हमला करने की फिराक में हैं। पाकिस्‍तान ने कई जगहों पर स्‍नाइपर तैनात किए हैं ताकि बिना सीमा पार किए ही भारतीय सैनिकों को निशाना बनाया जा सके। पाकिस्‍तान बड़ी आतंकवादी कार्रवाई करके अपने समर्थकों का उत्‍साह बढ़ाना चाहता है।
बता दें कि पाकिस्‍तान ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब भारतीय सुरक्षाबलों ने हिज्बुल का गढ़ कहे जाने वाले कश्मीर के बारामूला जिले को आतंक के दंश से मुक्त करा लिया है। बुधवार को ही राज्य के बारामूला जिले के साफियाबाद में सेना, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के एक जॉइंट ऑपरेशन में तीन लश्कर आतंकियों को मार गिराया गया था। यही नहीं पिछले एक साल में सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों की कमर तोड़ दी है और सैंकड़ों आतंकवादियों को मार गिराया है।
गौरतलब है कि पाकिस्तान में BAT आतंकवादियों को एलओसी पार कर 3 किलोमीटर की दूरी तक हमले करके वापस भाग जाने की विशेष ट्रेनिंग दी जाती है। पाकिस्तान की बैट घात लगाकर हमला करने और भारतीय जवानों के शव क्षत-विक्षत करने के लिए कुख्यात रही है। यह आतंकवादियों के साथ मिलकर घुसपैठ की कोशिशों को बढ़ावा देती है। बॉर्डर ऐक्शन टीम में पाकिस्तानी जवानों के अलावा आतंकी भी शामिल होते हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »