अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व प्रधान की गोली मारकर हत्‍या

अमेठी। अमेठी में लोकसभा चुनाव में स्मृति ईरानी के प्रचार में बड़ी जिम्मेदारी निभाने वाले भाजपा नेता की सोते समय हत्या कर दी गई। घटना से सनसनी फैल गई। मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। मामले में कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। वारदात की जानकारी मिलते ही स्मृति ईरानी दिल्ली से लखनऊ के लिए रवाना हो गई हैं। वह अमेठी जाएंगी।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में चुनाव की समाप्ति के बाद हत्याओं का दौर शुरू हो गया है, अमेठी में बीजेपी से जुड़े एक पूर्व प्रधान की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मृतक को स्मृति ईरानी का करीबी बताया जा रहा है। घटना स्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात करने के साथ ही हमलावरों की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है।
अमेठी के एसपी के अनुसार अमेठी में गौरीगंज के जामो थाना क्षेत्र के बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की अज्ञात बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोली बरसाकर हत्या कर दी।
अज्ञात हमलावरों ने इस घटना को बीती रात करीब 3 बजे उस वक्त अंजाम दिया, जब सुरेंद्र सिंह घर के बाहर सो रहे थे। घटना के फौरन बाद परिजन सुरेंद्र को लेकर लखनऊ ट्रामा सेंटर ले गए लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया।
स्मृति के बेहद खास थे सुरेंद्र सिंह
बता दें कि मृतक सुरेंद्र सिंह अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को शिकस्त देने वाली बीजेपी नेता स्मृति इरानी के खास थे। वह अपने गांव के प्रधान रह चुके थे और क्षेत्र में उनका प्रभाव भी था। वह बीजेपी और स्मृति के प्रचार में सक्रियता से लगे हुए थे और घटना से एक दिन पहले ही एक समाचार एजेंसी से बातचीत में उन्होंने इलाके में राहुल गांधी की असक्रियता पर टिप्पणी भी की थी। उन्होंने कहा था, ‘कोई भी ऐसे व्यक्ति को वोट क्यों करेगा, जो अपने क्षेत्र में ही नहीं आता है। राहुल बरौलिया गांव में ही 3 साल पहले आए थे और चुनाव में भी वह यहां नहीं आए।’
बता दें कि बरौलिया गांव को पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने गोद लिया था। 2014 में स्मृति की हार के बाद पर्रिकर ने गोद लिया था। उस समय सुरेन्द सिंह ही ग्राम प्रधान थे। इस बार स्मृति की जीत में सुरेंद्र की भूमिका काफी अहम थी। पुलिस इसे राजनीतिक रंजिश या किसी पुराने विवाद का मामला मान कर जांच में जुट गई है।
हमलावरों की तलाश में जुटी पुलिस
घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंच गई और तनाव के माहौल को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई है। पुलिस हमलावरों का सुराग ढूंढने में लग गई है। इससे पहले गाजीपुर में भी चुनाव परिणामों के बाद समाजवादी पार्टी से जुड़े एक जिला पंचायत सदस्य की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »