विशाल रोड शो के साथ स्मृति इरानी ने अमेठी से दाखिल किया नामांकन

अमेठी। केंद्रीय मंत्री और बीजेपी प्रत्याशी स्मृति इरानी ने गुरुवार को विशाल रोड शो के साथ अमेठी लोकसभा सीट से अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया।
नामांकन यात्रा में स्मृति इरानी के साथ चुनावी रथ पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित बीजेपी के कई बड़े नेता सवार थे। स्‍म‍ृति इरानी ने चार किमी लंबा रोड शो करके गांधी परिवार के गढ़ अमेठी में अपनी ताकत का अहसास कराया। इससे पहले उनके मुख्‍य प्रतिद्वंदी कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने भी बुधवार को तीन किमी लंबा रोड शो करते हुए पर्चा दाखिल किया था।
रोड शो के दौरान सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि मुझे विश्वास है कि अमेठी की जनता रोशनी बिखेरने, अमेठी पर छाया अंधेरा मिटाने और वंशवाद का सूरज अस्त करने के लिए स्मृति इरानी को चुनकर नई विकास गाथा लिखेगी। स्‍मृति इरानी ने अपने घर की तरह ही अमेठी की देखभाल की है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी को यूपी में 74 से ज्‍यादा सीटें मिलेंगी। बता दें कि स्‍मृति इरानी को पहले अपना नामांकन पत्र 17 अप्रैल को दाखिल करना था लेकिन उस दिन छुट्टी होने के कारण उन्‍होंने आज अपना पर्चा दाखिल किया।
अमेठी में पांचवें चरण में छह मई को मतदान
अमेठी में पांचवें चरण में छह मई को मतदान होना है। स्मृति इरानी का अमेठी सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से सीधा मुकाबला है। राहुल ने बुधवार को ही नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में स्मृति को राहुल गांधी के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा था। विश्‍लेषकों के मुताबिक पिछले पांच साल में स्‍मृति इरानी ने काफी मेहनत की और इस बार राहुल गांधी को कड़ी टक्‍कर देने के मूड में हैं।
पर्चा दाखिल करने से पहले स्‍मृति इरानी ने अपने पति जुबिन इरानी के साथ पूजा की और भगवान का आशीर्वाद लिया। राहुल के नामांकन के दिन स्मृति इरानी ने कांग्रेस पर निशाना साधा था। अपनी सभा में स्मृति ने कहा,’देश को खंडित करने और समाज को विखंडित करने का सपना देखने वालों को अपना समर्थन ना दें। इससे देश कमजोर हो जाएगा।’
अमेठी गांधी परिवार की परंपरागत सीट
उन्होंने कहा, ‘मुझे अमेठी ने एक प्रत्याशी नहीं बल्कि दीदी के रूप में सम्मान दिया है। मैं अमेठी की सेवा अपना परम धर्म समझती हूं।’ स्मृति ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘राहुल गांधी अपने बहनोई राबर्ट वाड्रा को लेकर अमेठी पर्चा भरने आए थे। मैंने पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा था कि दामाद जी यदि अमेठी आ रहे हैं तो अमेठी के किसानों को अपनी जमीन की रक्षा करने के लिए तैयार हो जाना चाहिए।’
बता दें कि अमेठी गांधी परिवार की परंपरागत सीट है और राहुल गांधी इस सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले गांधी परिवार के चौथे सदस्य हैं। अमेठी लोकसभा सीट 1967 में अस्तित्व में आई। इसके पहले इसका एक हिस्सा रायबरेली और दूसरा सुलतानपुर लोकसभा सीट में बंटा था। पिछले चुनाव में राहुल गांधी ने उन्‍हें 1,07,000 वोट से हराया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »