Smart City का इतना ‘टैक्‍स’ तो देना ही होगा बनारसियों को

वाराणसी। Smart City का इतना ‘टैक्‍स’ तो देना ही होगा बनारसियों को कि प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी को पान की पीकों से मुक्‍ति मिल जाए। Smart City योजना के तहत गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माने तय किये जा रहे हैं। पान खाकर थूकने पर 100 से लेकर 500 रुपये तक जुर्माने का स्लैब बनाया गया है। Smart City का इतना ‘टैक्‍स’ तो देना ही होगा बनारसियों को, वाराणसी स्मार्ट सिटी कंपनी ने जुर्माने के स्लैब से लेकर कानूनी कार्रवाई का खाका खींचा है।

ये तो सभी जानते हैं कि बनारस में हर सड़क-गली में बमुश्किल सौ मीटर की दूरी में पान की दुकान मिल ही जाएगी। पान खाने के शौकीनों की खासियत यह भी कि शौकीन पान खाते नहीं, उसे घुलाते हैं और फिर कहीं भी थूकने में परहेज नहीं करते। ऐसे में जगह-जगह पान की पीक से बदरंग सूरत ही देखने को मिलती है।

Smart City कंपनी के सीईओ और नगर आयुक्त डॉ. नितिन बंसल ने बताया कि शहर की तस्वीर बदलने को पान खाने या बेचने पर रोक का इरादा नहीं, बस पान खाकर सड़कों पर थूकने की आदत पर सख्ती होगी। पान खाकर थूकने पर 100 से लेकर 500 रुपये तक जुर्माने का स्लैब बनाया गया है। जुर्माने के बाद भी आदत में सुधार न लाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए विधिक राय ली जा रही है। पान की दुकानों के पास सड़क पर पत्ता फेंका मिलने पर दुकानदार पर जुर्माना लगेगा।

सीईओ के मुताबिक आने वाले समय में मवेशी पालकों पर भी कार्रवाई की तैयारी है। शहर की सड़कों पर गोबर फेंकने या फिर सीवर में बहाने पर पहले जुर्माना लगेगा और फिर इन्हें शहर से बाहर किया जाएगा। इसी तरह मनमाना कूड़ा फेंकने वाले भी अब कार्रवाई की जद में होंगे। सीईओ के मुताबिक पान खाकर थूकने वालों पर न सिर्फ ‘तीसरी आंख’ की नजर होगी बल्कि टास्क फोर्स भी बनाई जाएगी। इसके लिए चौराहों से लेकर गलियों तक में कैमरे लगाने की तैयारी चल रही है।

Smart City बनाने की कवायद शुरू होते ही बनारस में सबसे पहले पान खाने के शौकीनों पर संकट के बादल छाए हैं।

पान जहां-तहां थूकने वाले बनारसियों को या तो अपनी आदत बदलनी होगी या फिर भारी भरकम जुर्माना भरने के लिए तैयार रहना होगा। इनपर ‘तीसरी आंख’ से नजर रखी जाएगी।-एजेंसी