धर्मांतरण के फायदे गिनाने वाले IAS इफ़्तिख़ारुद्दीन के वीडियो की जांच SIT को

कानपुर। कानपुर के पूर्व मंडलायुक्त रहे IAS इफ्तिखारुद्दीन का एक सनसनीखेज वीडियो वायरल हुआ है ज‍िसमें वे अपने सरकारी आवास पर धर्मांतरण के फायदे गिनाते दिख रहे हैं। वीडियो सामने आने के बाद योगी सरकार ने इस मामले में एसआईटी जांच के आदेश दिए है और 7 दिन के अंदर रिपोर्ट भेजने को कहा है।

SEE THE VIDEO – 

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी इस मामले के बारे में कहा, “कानपुर के आईएएस श्री इफ़्तिख़ारुद्दीन के मामले में शासन द्वारा एसआईटी से जांच के आदेश दिए गए हैं। एसआईटी के अध्यक्ष डीजी सीबीसीआईडी जीएल मीणा होंगे एवं सदस्य एडीजी ज़ोन भानु भास्कर होंगे. एसआईटी अपनी रिपोर्ट 7 दिन में शासन को प्रेषित करेगा।”

कौन हैं आईएएस इफ्तिखारुद्दीन
मूल रूप से बिहार के रहने वाले इफ़्तिख़ारुद्दीन 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। वायरल हुए विवादित वीडियो क़रीब पांच साल पुराने बताए जा रहे हैं जब वो कानपुर में मंडलायुक्त के पद पर तैनात थे। 14 फरवरी 2014 से 22 अप्रैल 2017 तक कानपुर के मंडलायुक्त रह चुके हैं। वह श्रमायुक्त का पदभार भी संभाल चुके हैं। फिलहाल वह यूपी राज्य परिवहन निगम (रोजवेज) के चेयरमैन पद पर हैं।

धर्मांतरण विवाद से क्या है कनेक्शन?
उनकी कानपुर में तैनाती के दौरान का एक पुराना वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वे कुछ लोगों के साथ बैठे हुए हैं और ‘इस्लाम धर्म में होने के फ़ायदे’ बता रहे हैं। मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन सरकारी आवास पर मुस्लिम धर्म को लेकर तकरीरें पढ़ रहे हैं। उनके साथी धर्मांतरण करते दिख रहे हैं। वायरल वीडियो में इफ्तिखारुद्दीन कहीं अपनी बात रख रहे हैं तो कहीं पर सुन रहे हैं। उनमें मुस्लिम धर्म का एक जानकार धर्मांतरण पर बोल रहा है और इफ्तिखारुद्दीन आगे बैठकर उनकी बात ध्यान से सुन रहे हैं।

दूसरे वीडियो में इफ्तिखारुद्दीन कुर्सी पर बैठकर तकरीरें पढ़ रहे हैं। वह कह रहे हैं, ‘ऐलान करो, दुनिया के इंसानों से कि अल्लाह कि बादशाहत और निजामियत पूरी दुनिया में कायम करनी है।’

वीडियो की कुछ और कथित बातों पर कानपुर के कुछ हिन्दू संगठनों ने आपत्ति जताई थी जिसके बाद सोमवार को कानपुर पुलिस ने वायरल वीडियो की जांच के आदेश दे दिए गए।
– एजेंसी

 

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *