एशियन गेम्स के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय Shuttler बनीं सिंधु

अब फाइनल में ताई जू यिंग से होगा Shuttler सिंधु का मुकाबला

जकार्ता। भारतीय shuttler पीवी सिंधु ने एशियन गेम्स के महिला बैडमिंटन सिंगल्स के फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया। सिंधु ने महिला सिंगल्स में वर्ल्ड नंबर-2 अकाने यामागुची को हरा कर फाइनल में अपनी जगह बना ली है, अब फाइनल में उनके सामने ताई जू यिंग होंगी।
भारतीय बैडमिंटन क्षेत्र में देश की नंबर वन shuttler पीवी सिंधु के 18वें एशियन गेम्स के फाइनल में जगह बना लेने से खुशी का । उन्होंने सोमवार को महिला सिंगल्स का माहौल है।

सिंधु को जीबीके स्टेडियम में वर्ल्ड नंबर-2 यामागुची को मात देने में काफी पसीना बहाना पड़ा। भारतीय शटलर ने 1 घंटे 6 मिनट में यामागुची को मात दी। सिंधु ने पहले ही गेम में अपने इरादे दर्शा दिए कि वह फाइनल में प्रवेश करने के इरादे से कोर्ट में आई हैं। उन्होंने किसी भी पल यामागुची को हावी नहीं होने दिया और पहले गेम के हाफ टाइम तक 11-8 की बढ़त बनाई। इसके बाद उन्होंने बढ़त को बरकरार रखते हुए पहला गेम 21-17 से अपने नाम किया। आज सिंधु ने सेमीफाइनल में जापान की अकाने यामागुची को 21-17, 15-21, 21-10 से हराया। वे एशियन गेम्स के फाइनल में पहुंचने वाली भारत की पहली बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। अब फाइनल में उनका मुकाबला दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी ताइवान की ताई जू यिंग से होगा।

पीवी सिंधु की वर्ल्ड रैंकिंग 3 है। जापान की यामागुची वर्ल्ड नंबर-2 हैं। उम्मीद के मुताबिक दोनों खिलाड़ियों के बीच कड़ी टक्कर हुई। 65 मिनट तक चले इस मुकाबले का पहला गेम 23 साल की सिंधु ने जीता।

अगला गेम जापानी खिलाड़ी के नाम रहा। मुकाबला कांटे का चल रहा था लेकिन सिंधु ने तीसरे गेम यामागुची को कोई मौका नहीं दिया और 21-10 से गेम और मैच खत्म कर दिया। यह दोनों खिलाड़ियों के बीच सातवां मुकाबला था, सिंधु ने इनमें से 5 मैच जीते हैं।

साइना सेमीफाइनल हारीं, पहला ब्रॉन्ज जीता
इससे पहले साइना नेहवाल दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी ताई जू यिंग से हार गईं. ताइवान की खिलाड़ी ने उन्हें 21-17, 21-14 से हराया. इससे साइना को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा. यह एशियन गेम्स में सिंगल्स में उनका पहला मेडल है. यह दोनों खिलाड़ियों के बीच 16वां मुकाबला था. ताई जू यिंग ने इनमें से 11 मुकाबले जीते हैं.

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »