बागपत में कच्चे तेल का भंडार के संकेत, Kirthal में खुदाई शुरू

बागपत। पश्‍चिमी उत्‍तरप्रदेश के जिला बागपत में अब कच्चे तेल का भंडार के मिलने के संकेत मिलने के बाद यहां के Kirthal गांव में खुदाई करके ओएनजीसी ने सैंपल ले लिए हैं।

Kirthal गांव के जंगल में कच्चा तेल के भंडार मिलने की उम्मीद के बाद ओएनजीसी ने कुछ क्षेत्र को चिह्नित कर अपना काम शुरू कर दिया है। इसके चलते अभी छोटा बोरिग किया गया है। कंपनी ने क्षेत्र में झंडी लगा दी है तथा खेत मालिक से मुआवजे की बात शुरू कर दी है।

किरठल के सुधीर प्रमुख, मांगेराम, पंकज, अशोक आदि ने बताया कि ओएनजीसी के अधिकारी व कर्मचारी कई दिन पहले गांव में आए थे और सौरभ के खेत और आसपास का क्षेत्र देखा था। उसके बाद उन्होंने दो किमी दायरे में झंडी लगाई और सौरभ के खेत में लगभग 175 फुट गहराई तक बोरिग की। उसके बाद अधिकारी व कर्मचारी जल्द ही आने की बात कहते हुए लौट गए। लोगों ने बताया कि कर्मचारियों ने बताया था कि कुछ समय पहले सेटेलाइट के माध्यम से पता चला था कि किरठल गांव के पास जमीन में कच्चा तेल का भंडारण हो सकता है, इसलिए वे यहां आए थे। जल्द ही खेत में बड़ा बोरिग शुरू हो जाएगा।यदि यहां तेल का भंडारण मिल गया तो यह क्षेत्र के लिए बड़ी बात होगी। एसडीएम गुलशन कुमार ने बताया कि इस तरह की जानकारी उनके पास नहीं है।

गौरतलब है कि सेटेलाइट के माध्यम से कच्चे तेल के भंडार जिले के किरठल क्षेत्र में होने की खोज की गई है। ओएनजीसी की टीम ने खेत में खुदाई कर तीन किलोमीटर के इलाके की जांच शुरू कर दी है। वहीं कोलकाता से ओएनजीसी की टीम यहां पहुंच चुकी है। बताया जा रहा है कि दो हजार फिट से ज्यादा गहराई तक खुदाई कराई जा सकती है।

रमाला थाना क्षेत्र के गांव किरठल में जमीन के अंदर तेल की खोज की जाएगी। सेटेलाइट से तेल की संभावना मिलने के बाद ओएनजीसी की टीम यहां पर पहुंची और खेत से कुछ हिस्से में गेहूं की कटाई कराई गई। करीब 17 बीघा खेत की निशानदेही की गई है। तीन दिन बाद टीम यहां पर बोरवेल करेगी, जिससे हकीकत का पता चल सके। तेल की खोज का जिले में यह पहला मामला है।

किरठल गांव के किसान बाबू ने बताया कि दो दिन पहले ओएनजीसी की टीम उनके घर पहुंची थी। किसान को जानकारी दी कि सेटेलाइट से उसके खेत में तेल होने का अनुमान लगाया जा रहा है। शुक्रवार को टीम किसान को लेकर खेत में पहुंची। खेत में खड़ी गेहूं की फसल को कटवाया गया। टीम ने करीब 17 बीघा खेत की निशानदेही कर दी।

यहां पर तीन दिन बाद बोरवेल किया जाएगा। जिससे सही स्थिति का पता चल सके। बाबू ने बताया कि टीम ने तेल या गैस निकलने की 95 प्रतिशत संभावना जताई है। अब तीन दिन बाद टीम आएगी। इसके अलावा आसपास के खेतों में भी जांच की जाएगी।  ग्राम प्रधान सुदेश ने भी टीम के आने की पुष्टि की है। खेत में जमीन के अंदर तेल का अनुमान लगाया जा रहा है। गांव के लोग भी मौके पर पहुंच गए।

दिल्ली से पहुंची टीम शुक्रवार को दिनभर गांव में जमा रही। यहां पर जमीन के बाद से सैंपल लिया गया और इसके बाद अधिकारी वापस दिल्ली लौट गए।

कल शुक्रवार को टीम ने जमीन में करीब 170 फीट बोर किया। इसके बाद विस्फोट करके सैंपल लिया। अगर तेल होने का सुबूत मिलता है तो खेत में बोरवेल कर तेल निकाला जाएगा। आसपास के लोगों को खेत में जाने से मना कर दिया गया है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »