Sidhu को झटका, कैप्टन के बाद राज्यपाल ने भी इस्‍तीफा मंजूर किया

चंडीगढ़। पंजाब की सियासत में एकबार फ‍िर हलचल तेज हो गई है, आज नवजोत सिंह Sidhu का इस्तीफा राज्यपाल ने भी स्वीकार कर ल‍िया है। इसे Sidhu के लिए बड़ा झटका मामना जा रहा है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने Sidhu का कैबिनेट मंत्री पद से इस्‍तीफा मंजूर कर लिया है। कैप्‍टन ने सिद्धू का इस्‍तीफा राज्‍यपाल वीपी सिंह बदनौर को भेज दिया। राज्यपाल ने भी इस्तीफा स्वीकर कर लिया है।

बताया जाता है कि कैप्‍टन ने सिद्धू के अपने रुख पर कायम रहने के बाद उनका इस्‍तीफा स्‍वीकार करने का फैसला किया। अब सिद्धू के अगले कदम को लेकर कयासबाजी तेज हो गई है। सिद्धू इस्‍तीफा देने के बाद से मौन हैं। इस्‍तीफा मंजूर होने के बाद अब सिद्धू के अगले एक्‍शन पर नजरें टिक गई हैं।

बताया जाता है कि सिद्धू और कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के बीच विवाद में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी दखल दिया था, लेकिन दोनों नेताओं के बीच पैदा हुई अहम की लड़ाई समाप्‍त नहीं हुई। सिद्धू ने कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को मंत्री पद से इस्‍तीफा देने के बाद पुन: पार्टी महासचिव प्रियंका वाड्रा से बात की थी। बताया जाता है कि प्रियंका के हस्तक्षेप के कारण कैप्टन ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया था। वैसे, बताया जा रहा है कि कांग्रेस सिद्धू जैसे फायर ब्रांड नेता को खोना नहीं चाहती, इसलिए उनको दूसरे तरीके से जिम्मेदारी दी जा सकती है।

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार सुबह नवजोत सिंह सिद्धू का इस्‍तीफा स्‍वीकार किया। उन्‍होंने इस्‍तीफे को अंतिम स्‍वीकृति के लिए राज्‍यपाल वीपी सिंह बदनौर को भेज दिया। बदनौर की स्‍वीकृति के बाद नवजोत सिंह सिंह सिद्धू की जगह नए मंत्री बनाए जाने की हलचल शुरू होगी। इस पद के लिए पहले से ही कई नेता लॉबिंग में जुटे हैं

बताया जाता है कि कैप्‍टन पूरे मामले में सिद्धू को लेकर नरम होने को तैयार हो गए थे, लेकिन सिद्धू के रुख के कारण मामले का हल नहीं हुआ। नवजोत सिंह सिद्धू कैबिनेट में फिर से स्थानीय निकाय विभाग मांग रहे थे, लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह कियी भी हालत में उन्हें यह विभाग दोबारा देने को तैयार नहीं हुए। उल्लेखनीय है कि कैप्टन ने 6 जून को नवजोत सिंह सिद्धू से स्‍थानीय निकाय विभाग वापस ले लिया था और उनको ऊर्जा विभाग सौंपा था।

सिद्धू ने 40 दिनों के बाद भी ऊर्जा विभाग का कार्यभार नहीं संभाला। 14 जुलाई को उन्‍होंने खुलासा किया कि वह मंत्री पद से अपाना इस्‍तीफा 10 जून को राहुल गांधी को सौंप चुके हैं। इस पर सवाल उठने के बाद नवजोत सिद्धू ने 15 जुलाई को मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को भी अपना इस्‍तीफा सौंप दिया। इसके बाद से अब अमरिंदर ने इस पर फैसला किया है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »