हिंसक प्रदर्शन को फंडिंग के आरोप पर सिब्‍बल ने मीडिया को धमकाया

नई दिल्‍ली। कांग्रेस के सीनियर लीडर और सुप्रीम कोर्ट के वकील कपिल सिब्बल ने एंटी-CAA प्रोटेस्ट के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI से पैसे लेने के आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने सोमवार को कहा कि आरोपों में सच्चाई नहीं है और यह उन्हें बदनाम करने की साजिश है।
इतना ही नहीं, उन्होंने धमकी दी कि जिन समाचार माध्यमों ने इस बारे में उनका नाम लेते हुए स्टोरी की है, अगर उसे नहीं हटाया तो वह उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करेंगे।
बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 73 बैंक खातों में 120 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम जमा की गई थी, जिनका इस्तेमाल सीएए के खिलाफ हिंसक विरोध-प्रदर्शन में हुआ था।
‘आरोप में दम नहीं, बदनाम करने की है साजिश’
सिब्बल ने कहा, ‘आरोप लगाया जा रहा है कि सीएए प्रोटेस्ट के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से पैसा लिया है। इसमें मेरा और कुछ अन्य वकीलों का नाम लिया जा रहा है। इन आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। यह झूठ की बदौलत लोगों की प्रतिष्ठा खत्म करने की साजिश का हिस्सा है।’ अपनी सफाई में उन्होंने यह भी कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट में हदिया केस को लड़े थे लेकिन उसके लिए उन्हें मार्च 2018 में ही पेमेंट मिल चुकी थी।
‘PFI से मार्च 2018 में पैसे मिले थे, तब CAA आया ही नहीं था’
कांग्रेस नेता ने कहा, ‘हादिया केस में सुप्रीम कोर्ट में मैंने हदिया का प्रतिनिधित्व किया था। शफीन जहां ने हदिया से शादी की थी। हदिया ने धर्मपरिवर्तन किया था। मामला अदालत में पहुंचा। PFI ने हदिया के लिए कानूनी लड़ाई लड़ी। 7 मौकों पर मैंने हदिया का प्रतिनिधित्व किया और हम केस जीते। 2017 का केस था। उसके लिए मुझे सभी पेमेंट मार्च 2018 से पहले मिले थे। वह पेशेवर सेवा के लिए था।’
सिब्बल ने आगे कहा, ‘क्या मुझे ख्वाब आना था कि अमित शाह गृह मंत्री बनेंगे, वह सीएए लाएंगे, सीएए के खिलाफ प्रोटेस्ट होगा, शाहीन बाग में प्रोटेस्ट होगा और मुझे 2017 में ही इसके लिए पैसे ले लेने होंगे।’
बीजेपी का सोनिया से सवाल, सिब्‍बल ने PFI से 77 लाख क्यों लिए
उधर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) द्वारा कुछ खास लोगों को फंडिंग करने के सनसनीखेज आरोपों के बाद भाजपा हमलावर हो गई है। भाजपा ने कहा है कि सोनिया गांधी बताएं कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने PFI से 77 लाख रुपए क्यों लिए?
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि हो सकता है कि सोनिया गांधी ने भी PFI से पैसे लिए होंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के हाथ आतंकवादियों और आगजनी करने वालों के साथ है। उनका इशारा शाहीन बाग में चल रहे प्रोटेस्ट के संदर्भ में था।
पात्रा ने कहा कि पैसे देकर देश में हिंसा फैलाई गई। भाजपा प्रवक्ता ने कपिल सिब्बल, इंदिरा जयसिंह, दुष्यंत दवे पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कांग्रेस से सवाल किया कि आखिर उसे हाफिज सईद से प्यार क्यों है?
क्या है फंडिंग का मामला
PFI के बैंक अकाउंट से देश के कई बड़े वकीलों को पैसे दिए गए। जांच में PFI के कुल 73 बैंक खातों के बारे में पता चला है।
बताया जाता है कि PFI के 27 और उससे संबंधित इकाई रिहैब इंडिया फाउंडेशन (RIF) 9 और पीएफआई की 17 अलग-अलग इकाइयों-व्यक्तियों से संबंधित 37 खातों में 2 से 3 दिन के अंदर 120 करोड़ रुपए जमा किए गए हैं।
इस खुलासे के अनुसार PFI की तरफ से कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को 77 लाख, वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह को 4 लाख, दुष्यंत दवे को 11 लाख और अब्दुल समर (एनआईए की चार्जशीट में नाम) 3 लाख रुपए दिए गए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *