पुष्पक विमान से अयोध्‍या पहुंचे श्रीराम, सीता और लक्ष्मण… योगी ने की अगवानी

अयोध्या राममय है। बुधवार को 5वें दीपोत्सव पर आज सरकार अपना पुराना रिकॉर्ड तोड़ेगी। सुबह श्रीराम के अयोध्या आगमन को प्रतीकात्मक रूप में दर्शाते हुए भव्य शोभा यात्रा निकली गई। दोपहर में भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण पुष्पक विमान (हेलीकाप्टर) से अयोध्या पहुंचे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने हेलीपैड से सभी का स्वागत किया। इसके बाद प्रभु राम को रामकथा पार्क तक रथ से लाया गया। यहां भगवान राम का राज्याभिषेक हुआ। सीएम योगी ने राम का राजतिलक किया।
इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि 31 साल पहले अयोध्या में क्या हो रहा था। 30 अक्टूबर और 2 नवंबर 1990 को रामभक्तों पर बर्बर तरीके से गोलियां चलाई गईं थीं। आप देखना कि अगर अगली कारसेवा होगी, तो गोली नहीं चलेगी। रामभक्तों व कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी।
दीप जलाने की प्रकिया शुरू हो चुकी है। सरयू के किनारे राम की पैड़ी से जुड़े 32 घाट पर करीब 9.51 लाख दीप जलाए जा रहे हैं। वालंटियर्स को 30 मिनट में दीपों को जलाना है। इसे गिनीज बुक रिकॉर्ड में दर्ज किया जाएगा।
इस अवसर पर केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्‌डी ने कहा कि अयोध्या विश्व के सर्वाधिक पर्यटन वाली नगरी में से एक बनेगी। जल्द ही भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनकर तैयार होगा।
केशव मौर्य ने कहा पहले घटिया तुष्टिकरण की राजनीति चल रही थी, ऐसी दिवाली की कल्पना नहीं की जा सकती थी। आज भगवान राम पुष्पक विमान से अयोध्या आ रहे हैं।
आगे कहा, अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है। काशी में अयोध्यानाथ के नाथ का मंदिर बन रहा है। अशोक सिंघल, बलिदानी कारसेवक और कल्याण सिंह के नाम पर तीन सड़कें यहां बनेंगी।
स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि ये सरकार संतों की है। यह सरकार लूटने के लिए नहीं है। कानून का शासन हो तो योगी का शासन देखिए।
सीएम योगी ने 661 करोड़ की कुल 50 परियोजनाओं का सीएम ने लोकार्पण और शिलान्यास किया।
सीएम ने दीपोत्सव-2021 के विशेष आवरण और भगवान राम से जुड़ी कवि यतींद्र मिश्र की पुस्तक का विमोचन किया।
वियतनाम, केन्या, त्रिनिदाद और टोबैगो के राजदूतों ने भगवान राम, लक्ष्मण और सीता के किरदार निभाने वाले कलाकारों का राजतिलक किया।
उप्र के सीएम योगी आदित्यनाथ अयोध्या में रामकथा पार्क पहुंच चुके हैं। उन्होंने कहा कि पांच साल पहले अयोध्या में ऐसी दिवाली नहीं होती थी।
राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के साथ पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यूपी सरकार केंद्र के सहयोग से पूरी तत्परता के साथ काम कर रही है।
साकेत महाविद्यालय से निकली भगवान राम की शोभायात्रा रामकथा पार्क पहुंच चुकी है।
CM योगी की बड़ी बातें
31 साल पहले अयोध्या में 30 अक्टूबर और 2 नवंबर 1990 को रामभक्तों पर बर्बर तरीके से गोलियां चलाई गईं थीं।
तब ‘जय श्रीराम’ बोलना अपराध माना जा रहा था लेकिन लोकतंत्र की ताकत कितनी मजबूत होती है इस ताकत का आपने एहसास कराया।
जो लोग 31 साल पहले रामभक्तों पर गोलियां चला रहे थे, वो आपकी ताकत के आगे झुके हैं। अगर कुछ और वर्ष आप इसी तरीके से ले चले तो अगली कारसेवा के लिए वो और उनका पूरा खानदान लाइन में लगा होगा।
आप देखना कि अगर अगली कारसेवा होगी, तो गोली नहीं चलेगी। रामभक्तों व कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी।
पिछली सरकारों में ये पैसा कब्रिस्तान की दीवार बनाने में खर्च होता था, आज मंदिरों के पुनर्निर्माण और सुंदरीकरण पर खर्च हो रहा है।
जिन्हें कब्रिस्तान प्यारा था, वो जनता का पैसा वहां लगाते थे। जिन्हें धर्म और संस्कृति प्यारी है, वो पैसा उनके उत्थान के लिए लगा रहे हैं।
मुझे याद है कि 2017, 2018, 2019 में भी एक ही नारा गूंज रहा था- ‘योगी जी एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो।’ मैं तब भी कह रहा था कि मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला तैयार की जा रही है।
11 रथों वाली शोभायात्रा निकली, झूमते-नाचते नजर आए लोग
अयोध्या नगरी में भव्य झांकी यात्रा निकाली गई। झांकी में 11 रथ शामिल रहे। रथों पर भगवान राम के जीवन से जुड़े 11 प्रसंग दिखे और कलाकार मंचन करते नजर आए। इस यात्रा को डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। झांकियों की शोभायात्रा साकेत पीजी कॉलेज से निकलकर रामकथा पार्क पहुंची है। झांकी में लोक कला के कई रंग देखने को मिले। नाचते-गाते हुए भक्तों ने प्रभु राम का स्वागत किया। इस झांकी को देखने के लिए तमाम श्रद्धालु भी अयोध्या पहुंचे हैं।
प्रत्येक घाट पर 4 प्रतिशत दीप बढ़े, 32 पर्यवेक्षकों की जिम्मेदारी
अवध विश्वविद्यालय के टीचर अंकुर तिवारी का कहना है कि 9 लाख दीयों को जलाने के लिए करीब 36 हजार लीटर तेल की आवश्यकता होगी और उतना तेल इन दीयों में डाला जाएगा। करीब 12 हजार वॉलंटियर इस बार दीप जलाने में लगे है। दैनिक भास्कर ने घाट पर मौजूद वॉलंटियर से बातचीत की।
अवध विश्वविद्यालय के छात्र कीर्तिधर द्विवेदी ने बताया कि 20 से 25 समाजसेवी संगठन से जुड़े लोग, 15 महाविद्यालय और मुख्य रूप से अवध विश्वविद्यालय के सभी विभागों के छात्रों और प्रोफेसर्स की ड्यूटी लगाई गई है। बीते साल 8 हजार थे, इस बार 12 हजार वॉलंटियर हैं। 32 पर्यवेक्षकों को घाटों की जिम्मेदारी दी गई है। ऐसे ही 50 वॉलंटियर पर एक समन्यवक प्रत्येक घाट पर रखे गए हैं। दीपक जलाने के लिए रूई के ऊपर कपूर लगाया जाएगा। कीर्तिधर द्विवेदी बताते है कि प्रत्येक घाट पर तैनात एक वॉलंटियर 75 से 100 दीप जलाएगा और एक नया कीर्तिमान बन जाएगा।
घाट पर बने राम के जीवन से जुड़े रंगोली के चित्र
राम की पैड़ी पर मिट्‌टी के दीप सजा दिए गए हैं। बुधवार को प्रत्येक दीप में तेल और बाती लगाई जाएगी। घाट पर अवध विश्वविद्यालय के फाइन आर्ट के छात्रों ने राम के जीवन से जुड़ी कलाकृतियों को रंगोली से बनाया।
दीपोत्सव में आज फिर बनेगा रिकॉर्ड
5 दिवसीय दीपोत्सव 2021 का मुख्य आयोजन आज है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने वर्ष 2017 में पहली बार दीपोत्सव का आयोजन किया था। दीपोत्सव की शुरुआत 51 हजार दीयों से हुई थी। वर्ष 2019 में 4,04,226 मिट्टी के दीयों, वर्ष 2020 में 6,06,569 मिट्टी के दीयों से सरयू के तट पर रिकॉर्ड टूटा था। इस बार सीएम योगी आदित्यनाथ ने पहले ही घोषणा की थी कि अयोध्या में इस बार के दीपोत्सव में 12 लाख मिट्टी के दीये जलाए जाएंगे।
दीपोत्सव में आज का कार्यक्रम
रामायण कार्निवाल पर आधारित झांकी
भगवान श्रीराम सीता का हेलिकॉप्टर से आगमन
रामायण चित्र प्रदर्शनी का उद्घाटन
श्रीराम का राज्याभिषेक
12 हजार करोड़ की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास
सीएम योगी आदित्यनाथ का भाषण
सरयू आरती
राम की पैड़ी पर दीपोत्सव की शुरुआत
राम की पैड़ी पर आतिशबाजी और लेजर शो
श्रीलंका के सांस्कृतिक दल द्वारा रामलीला मंचन
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *