शिवसेना बोली मंदिर के लिए हमने भी दिए 1 करोड़ तो बीजेपी ने कहा, वापस ले लो

मुंबई। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए खरीदी गई जमीन में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया जा रहा है। शिवसेना ने कहा कि जमीन खरीदी में भ्रष्टाचार का मामला सामने आने से हमारी श्रद्धा और आस्था को ठेस पहुंची है, क्योंकि हमने भी एक करोड़ रुपये दिए हैं।
इस पर बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा कि भूखंड के मामले में शिवसेना खामोश रहेगी, तो ही ठीक है। शिवसेना के शीर्ष नेतृत्व से लेकर छोटे नेताओं तक को अलीबाग में जाना भारी पड़ेगा। शिवसेना को राम मंदिर ट्रस्ट पर विश्वास नहीं तो मंदिर निर्माण के लिए दिए गए 1 करोड़ रुपये वापस मांग ले।
उत्तर प्रदेश में अयोध्या के राम मंदिर के निर्माण के लिए श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा खरीदी गई जमीन में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे हैं। इस मसले को लेकर महाराष्ट्र में महाविकास आघाड़ी सरकार के प्रमुख दल शिवसेना और बीजेपी आमने-सामने आ गए हैं।
‘राम मंदिर राजनीति का विषय नहीं’
बीजेपी का नाम लिए बिना शिवसेना के प्रवक्ता व राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने कहा कि कुछ लोगों के लिए राम मंदिर राजनीति का विषय हो सकता है लेकिन हमारे लिए यह आस्था का प्रश्न है। जमीन खरीदी में भ्रष्टाचार का मामला सामने आने से हमारी श्रद्धा और आस्था को ठेस पहुंची है।
‘ट्रस्ट को अपनी भूमिका साफ करनी चाहिए’
राउत ने आगे कहा कि आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने मुझे फोन करके जमीन भ्रष्टाचार के संबंध में जानकारी दी। सिंह ने मुझे बताया कि मंदिर बनाने के लिए जो जमीन खरीदी गई है, उसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है इसलिए श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को इस पूरे मामले पर अपनी भूमिका साफ करनी चाहिए। आखिर राम मंदिर बनाने के लिए दुनियाभर से दान मिल रहा है।
‘वीएचपी बताए आरोप सच या झूठ’
राउत ने बताया कि शिवसेना ने भी एक करोड़ रुपये दिए हैं। अगर ऐसे ही दान के पैसे का दुरुपयोग किया गया तो लोगों की श्रद्धा का कोई मतलब नहीं है। श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में सभी बीजेपी से जुड़े सदस्य हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत और विश्व हिंदू परिषद को बताना चाहिए कि आरोपों में तथ्य है अथवा नहीं।
राउत चुप रहेंगे तो बेहतर होगा: शेलार
राउत के पूछे प्रश्नों का उत्तर देने के लिए मुंबई बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और बीजेपी नेता आशीष शेलार सामने आए हैं। शेलार ने दावा किया कि राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन खरीदी में कोई घोटाला नहीं हुआ है। बिना किसी सबूत के बोलना राउत की आदत में शुमार है।
राम मंदिर निर्माण में भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले राउत खुद चोर और घोटालेबाज हैं। यदि जमीन का घोटाला निकाला गया तो शिवसेना के शीर्ष नेतृत्व से लेकर छोटे नेताओं तक को भारी पड़ेगा।
‘विश्वास न हो तो वापस ले लें दान’
बीजेपी के आध्यात्मिक आघाड़ी के प्रमुख आचार्य तुषार भोसले ने कहा कि यदि शिवसेना को राम मंदिर ट्रस्ट पर विश्वास न हो तो राम मंदिर के लिए दान स्वरूप दिए एक करोड़ रुपये शिवसेना वापस मांग ले। फिलहाल मामले ने तूल पकड़ लिया है। माना जा रहा है कि इस मामले को सत्ताधारी दल एनसीपी और कांग्रेस के नेता भी उठाएंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *