शिलान्यास: अखिलेश ने कहा, योगी सरकार जनता को धोखा दे रही है

लखनऊ। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के शिलान्यास पर यूपी की सियासत गरमा गई है। पीएम मोदी की रैली से पहले यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। अखिलेश ने कहा कि समाजवादियों के काम को अपना बताकर सरकार जनता को धोखा दे रही है। साथ ही अखिलेश ने आरोप लगाया कि सोशल मीडिया पर उन्हें अपशब्द कहे जा रहे हैं लेकिन शिकायत के बावजूद योगी सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही है।
लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे की मिसाल देते हुए अखिलेश ने कहा, ‘सबसे कम समय में समाजवादी सरकार ने यह एक्सप्रेस-वे बनाया। देश की सबसे बेहतरीन सड़क मानी गई है। आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे जैसा देश में कहीं एक्सप्रेस-वे नहीं बना होगा। जो एक बार इस सड़क पर चलेगा वह कहेगा कि हां हम समाजवादी सरकार और समाजवादी पार्टी को वोट देंगे।’
‘हमारा प्लान था पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे’
अखिलेश ने आगे कहा, ‘जिस समय उद्घाटन हो रहा था। नेताजी (मुलायम सिंह यादव) थे, आजम खां साहब थे। एयर फोर्स के लड़ाकू विमान उतरे। दूसरी बार जब एक्सरसाइज हुई, तो उस सरकार (योगी सरकार) के लोगों की हिम्मत नहीं हुई कि उसे देखें। हम चाहते थे कि एक्सप्रेस-वे पूर्वांचल तक पहुंचे। समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के बारे में मैं अपनी बात रखना चाहता हूं। समाजवादियों ने पूरा अलाइनमेंट तय किया कि पूर्वांचल खुशहाली के रास्ते पर उतरे। हम उत्तर प्रदेश को एक्सप्रेस-वे के जरिए एक कोने से दूसरे कोने तक पहुंचाना चाहते थे। लखनऊ में पांच घंटे में प्रदेश के किसी कोने से पहुंच जाएं ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए।’
’20 किमी पर हाथ से छूट जाएगा गिलास’
योगी सरकार पर निशाना साधते हुए एसपी अध्यक्ष ने कहा, ‘एक्सप्रेस-वे के बारे में जाने क्या-क्या ज्ञान दे रहे हैं। जनता को कितना धोखा देंगे। अखबार में ऐड देखा मैंने। ऐड दे दिया कि 341 किलोमीटर बना रहे हैं। नाम से समाजवादी हटा दिया केवल पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे कर दिया। हम दावा करते थे कि अगर 120 की रफ्तार से चलोगे और आप गिलास में पानी लेकर बैठोगे तो पानी छलकेगा नहीं। इनके एक्सप्रेस-वे पर अगर अप 20 किमी चलोगे तो हो सकता है कि गिलास आपके हाथ से छूट जाए।’
’90 फीसदी जमीन एसपी सरकार ने ली’
अखिलेश ने कहा कि ‘बीजेपी के लोग दावा कर रहे थे गोरखपुर जोड़ देंगे, अयोध्या जोड़ देंगे। जो 341 किलोमीटर बता रहे हैं, 2 किमी की हेरा-फेरी यहीं कर ली। बहुत सस्ता बन रहा है। समाजवादी लोगों ने किसानों से जमीन लेने से पहले समझा। कोई जिला बता दीजिए जहां समाजवादी सरकार ने जमीन न ली हो। 90 फीसदी जमीन समाजवादी सरकार के समय में ली गई। चुनाव आयोग ने इजाजत में देरी कर दी।’
‘8 से 6 लेन कर जनता को धोखा’
एसपी सुप्रीमो ने कहा, ‘मेट्रो को चलाने में सेफ्टी और सिक्यॉरिटी का एनओसी (अनापत्ति प्रमाण-पत्र) चाहिए था, नहीं मिला। जो समाजवादी सरकार बनाना चाहती थी वह छह लेन से 8 लेन तक का एक्सप्रेस-वे बनाना चाहती थी। यह तो छह लेन का हो गया। कल को सड़क चौड़ी करना चाहेंगे तो कैसे होगी। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे में कभी भी यह हो सकता है। सर्विस लेन है ही नहीं। इसमें रोशनी ही नहीं है। कमाल के बीजेपी के लोग हैं। खर्च कम दिखाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। पीडब्ल्यूडी के मापदंड को ताक पर रख दिया। ये लोग सस्ता बनाने के चक्कर में कुछ भी कर सकते हैं, जनता को धोखा दे सकते हैं।’
‘शिलान्यास का शिलान्यास, उद्घाटन का उद्घाटन’
अखिलेश ने सीएम योगी पर हमला करते हुए कहा, ‘आज एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास हो रहा है तो हमसे ज्‍यादा खुशी किसे होगी। समाजवादियों से ज्यादा खुश कौन होगा। डबल इंजन की सरकार शिलान्यास का शिलान्यास करती है, उद्घाटन का उद्घाटन करती है। दूसरे की चीज अपना लें और चेहरे पर शिकन दिखाई न दे। हमारी सड़क पर उद्घाटन करना पड़ रहा है। अपनी मेट्रो बनाए होते गोरखपुर में वाराणसी में।’
यूपी के पूर्व सीएम ने कहा, ‘हमारे चौधरी साहब (राजेंद्र चौधरी) के प्लान का शिलान्यास कौन कर रहा है। प्रधानमंत्री। नहीं मानते तो तस्वीर देखिए। हमने हमेशा कहा कि यह एक्सप्रेस-वे किसानों की खुशहाली के लिए बना रहे हैं। प्रधानमंत्रीजी आम की तारीफ कर रहे थे। मलिहाबाद में आम की मंडी बन रही थी, उसे मुख्यमंत्री ने रोक दिया।’
‘आज भी हमारा काम बोल रहा है’
उन्होंने आगे कहा, ‘एक्सप्रेस-वे पर मंडी बननी चाहिए। कन्नौज और मैनपुरी में मंडी बन रही थी काम रोक दिया। मंडियां हम बना रहे थे। नोएडा में मंडी बन रही थी। जो समाजवादियों का काम था वह आगे बढ़ाया कि नहीं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे इनका नहीं है। मैंने तब भी बोला था कि काम बोलता है और आज सरकार में नहीं हैं, तो भी कहते हैं कि काम बोल रहा है।’
अखिलेश ने कहा, ‘इतना बड़ा धोखा कोई नहीं दे सकता। इनके पास कोई काम नहीं है बीजेपी वालों के पास। शिलान्यास का शिलान्यास, उद्घाटन का उद्घाटन कोई काम नहीं है इनके पास। सही मायनों में हिसाब-किताब लगाएंगे तो तीन साल के अंदर लोन पर 9 प्रतिशत ब्याज देना पड़ेगा। लाइट लगानी पड़ेगी। सारी चीजों को आप जोड़ दोगे, तो यह आपको ज्यादा महंगा पड़ रहा है।’
‘समाजवादियों के काम का शिलान्यास’
एसपी अध्यक्ष ने कहा, ‘आप (मीडिया के लोग) धोखे में मत आइए। आप सही बताइए क्या है सच्चाई। अपना काम अपना कहते हुए भी पूरा नहीं कर पाए। एम्स का उद्घाटन करते। इन्होंने पूर्वांचल के लोगों को धोखा देने का काम किया है। बनारस का प्रधानमंत्रीजी को पता नहीं कि मुख्यमंत्री ने उन्हीं का काट दिया। उनको पता ही नहीं अयोध्या का क्या किया। अयोध्या छूट गई कि नहीं एक्सप्रेस-वे में। केवल एक सड़क बना रहे हैं।
’18 महीने में सड़क बनाकर दिखाएं’
अयोध्या का जिक्र करते हुए अखिलेश ने कहा, ‘सोचिए इतना बड़ा धोखा दे रहे हैं। एक के बाद एक धोखा दे रहे हैं। चंदे का पता ही नहीं चला कि कौन ले गया। हमने 19 महीने में सड़क बनाकर दिखाई। आप 18 महीने में सड़क बनाकर दिखाओ। यह सरकार गरीबों के लिए नहीं अमीरों के लिए है। एक्सप्रेस-वे का सब कुछ समाजवादियों का है। केवल धोखा देकर प्रधानमंत्रीजी को शिलान्यास के लिए बुला रहे हैं।’
अखिलेश ने कहा, ‘समाजवादियों ने विकास का रास्ता दिया। सामाजिक सम्मान की बात की। नए नैरेटिव की बात करते हैं। समाजवादियों ने सद्भावना और न्याय का रास्ता निकाला। यही असली तरक्की का रास्ता है। जिस देश में इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास होगा, वहां तरक्की का रास्ता खुलेगा।’
‘सोशल मीडिया पर मुझे बनाया निशाना’
सोशल मीडिया पर खुद को निशाना बनाए जाने का आरोप लगाते हुए अखिलेश ने कहा, ‘मुझे सोशल मीडिया पर बुरी तरह से अपशब्द कहे जा रहे हैं। मैंने इस बारे में शिकायत भी दर्ज कराई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। वहीं, बीजेपी नेताओं के साथ इसी तरह के मामलों में तेजी से ऐक्शन लेते हुए दोषियों को जेल भेज दिया गया।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »