मॉब लिंचिग पर इंद्रेश कुमार के बयान से शिया वक्फ बोर्ड सहमत

लखनऊ। मॉब लिंचिग पर राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के संरक्षक इंद्रेश कुमार के विवादित बयान का शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने समर्थन किया है। वसीम रिजवी ने कहा है कि मुस्लिमों को बीफ खाना छोड़ना चाहिए। साथ ही गोहत्या के खिलाफ कड़े कानून की वकालत भी की।
इंद्रेश कुमार के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए वसीम रिजवी ने कहा, ‘मुस्लिमों को बीफ खाना बंद कर देना चाहिए। गोहत्या बंद करनी चाहिए। गाय का मीट इस्लाम में वैसे भी हराम है।’ उन्होंने आगे कहा कि आप मॉब लिंचिंग को नहीं रोक सकते। सिक्यॉरिटी हर जगह नहीं लगाई जा सकती इसलिए एक सख्त कानून गोहत्या के खिलाफ बनना चाहिए।
इंद्रेश कुमार के बयान का समर्थन करते हुए वसीम ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इंद्रेश जी के बयान में दम है। धार्मिक भावनाएं आहत नहीं होनी चाहिए। अगर गोहत्या रोकने के लिए कानून बनता है तो लिंचिंग भी रुक जाएगी। आप उसको नहीं मार सकते जिसे एक समुदाय ने माता का दर्जा दिया हो।’
गोहत्या रोकने से रुक जाएगी मॉब लिंचिंग?
इससे पहले मॉब लिंचिंग में मामले में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के संरक्षक इंद्रेश कुमार ने कहा है कि अगर लोग गोहत्या के पाप से मुक्त हो जाएंगे तो देश में मॉब लिंचिंग की घटनाएं भी रुक जाएंगी। इंद्रेश ने कहा था कि किसी भी भीड़ द्वारा की गई हिंसा अभिनन्दनीय नहीं हो सकती लेकिन दुनिया के जितने भी धर्म हैं, उनमें से किसी के भी धर्मस्थल पर गाय का वध नहीं होता।
उन्होंने आगे कहा, ‘ईसाई धर्म में गाय को मां माना गया है और इस्लाम में भी गाय के वध को अपराध मानते हैं। ऐसे में क्या हम यह संकल्प नहीं ले सकते कि धरा और मानवता को ऐसे पाप से मुक्त करें। अगर हम मुक्त हो जाएं तो मॉब लिंचिंग जैसी समस्याएं भी हल हो जाएंगी।’
बता दें कि अलवर जिले के रामगढ़ इलाके के गांव लल्लावंडी में शुक्रवार रात स्थानीय लोगों ने अकबर उर्फ रकबर नामक शख्स को गो-तस्कर बताकर पीटना शुरू कर दिया। बाद में रकबर की मौत हो गई। इस मामले में चार पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई हुई है, जबकि तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »