सिंधी समाज मथुरा ने भी बजाई थाली और ताली

मथुरा। सिंधी पंचायत के लोगों ने जनता कर्फ्यू के दौरान सायं 5 बजते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आव्हान पर शंख बजाकर घंटा घड़ियाल बजाकर तालियां बजाकर और थाल बजा कर उन डॉक्टरों का जो अपनी परवाह किए बिना कोराना वायरस  की जकड़ में आए व्यक्तियों का  इलाज कर रहे उन कर्मचारियों का जो सफाई व्यवस्था पर ध्यान दे रहे हैं जिहसे कहीं भी किसी प्रकार का  कोराना वायरस अपना स्थान ना बना ले तथा सुरक्षाकर्मियों का अभिनंदन और आभार व्यक्त किया, वही छोटे-छोटे बच्चों ने भी अपना पूरा योगदान देकर थालिया वा घंटी बजाई।
कदम्ब विहार में किशोर इसरानी ने सबको प्रेरित किया, वहीं राधिका विहार में रामचंद्र खत्री और कृष्णा आर्चिड में पंडित मोहन महाराज ने उत्साह बढ़ाया। तिलक नगर में नारायण दास लखवानी और प्रताप नगर में चंदनलाल आडवानी के साथ कृष्णा नगर में जीवतराम चंदानी ने थाली और ताली बजाकर समर्पित सेवकों का धन्यवाद किया।
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवाहन पर 22 मार्च को जनता द्वारा लगाया गये जनता कर्फ्यू में कोराना वायरस को हराने के लिए सिंधी पंचायत से जुड़े व्यापारियों ने दूकान बंद रखकर अपने घर के अंदर रहे।
सिंधी पंचायत के प्रदेश महामंत्री रामचंद्र खत्री ने कहा कि जनता कर्फ्यू से सर्वाधिक नुकसान व्यापारियों का हुआ है, जहां ग्राहक घरों से बाहर नहीं निकल रहे, वहीं कर्मचारियों को भी वेतन देना है, इसके वावजूद व्यापारियों ने दूकान बन्द रखकर न केवल कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए एवं भारत सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का गम्भीरतापूर्वक पालन किया है, वहीं मानवता का भी परिचय दिया है।
मीडिया प्रभारी किशोर इसरानी ने कहा कोरोना वायरस के रूप में पनपे विश्वव्यापी संकट पर जाति धर्म से ऊपर उठकर समस्त सिंधी व्यापारियों ने जनता कर्फ्यू का पालन किया और मानवता का परिचय दिया। जनता कर्फ्यू न केवल वायरस संक्रमण से बचायेगा बल्कि हमारी एकता को भी प्रदर्शित करेगा।
अब लॉक डाउनलोड के द्वारा भी हम सबको सहयोग करना है, यह मानवता को बचाने का प्रयास है और हम कोरोना वायरस को तभी मिटा पायेंगे।
ला.लु.सिंधी पंचायत के जिलाध्यक्ष जीवतराम चंदानी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के समस्त सिंधी पंचायत ने जनता कर्फ्यू में मोदी जी के आह्वान का सम्मान किया है। सामाजिक कार्यक्रमों में सहभागिता कुछ समय तक स्थगित करें, जिससे इस महामारी से बचा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *