गुरु नानक के प्रकाशोत्सव पर सीएम आवास में हुआ शबद-कीर्तन और लंगर

लखनऊ। श्रीगुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव के अवसर पर मंगलवार को सीएम आवास पर शबद-कीर्तन और लंगर आयोजन किया गया। सीएम योगी आदित्‍यनाथ कार्यक्रम में शाम‍ि‍ल हुए और माथा टेका। उत्तर प्रदेश में पहली बार किसी सीएम के आवास पर गुरु नानक का प्रकाशोत्सव मनाया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने में कहा कि मेरा सौभाग्य है कि आज मुख्यमंत्री आवास में इस कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। गुरुनानक देव जी से जो परंपरा शुरू हुई थी, वह सिर्फ सिख जाति के लिए नहीं, बल्कि देश की सुरक्षा के लिए था। कोई भी ऐसा भारतीय नहीं है जो गुरु परंपरा का सम्मान नहीं करता है। सीएम योगी ने कहा, ‘गुरु नानक देव सिर्फ सिख जाती के लिए नहीं, बल्कि देश की सुरक्षा के लिए जाने जाते हैं। ‘सीएम ने कहा कि सरकार और समाज को मिलकर योजना बनानी चाहिए कि कैसे गुरु नानक से जुड़े स्थलों को बड़े स्तर पर बढ़ाया जाए।
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘जब बाबर के अत्याचार से धरती कांप रही थी, तब भी गुरु नानक ने उसकी बर्बरता के खिलाफ आवाज उठाने में कोई कमी नहीं छोड़ी थी। ये गुरु कृपा ही है कि कोई भी सिख कभी सिर नहीं झुकाता। शस्त्र और शास्त्र का जो समन्वय यहां है, वैसा कही भी नहीं है. सिख के लिए कुछ भी असंभव नहीं होता है।’
सीएम ने कहा कि आज कोई भी सिख परिश्रम से नहीं भागता। भारत की 130 करोड़ की आबादी को लेकर गुरु नानक जी का संदेश मानवता के लिए फैलाया जाना चाहिए। हमारी सरकार इस पूरे कार्यक्रम के साथ जुड़ी है।’
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘गुरु परंपरा ने बलिदान दिया। यह बताने वाली बात है। इसकी जानकारी आज की पीढ़ी को होना चाहिए। इस परंपरा को स्कूलों तक पहुंचाना जरूरी है। आज हम सब की जिम्मेदारी बनती है कि हम सिख परंपरा के बारे में सभी छात्रों को अवगत कराएं।’
श्री गुरु नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव के सिलसिले में सुबह 08 बजे कानपुर के गुरुद्वारा बाबा नामदेव से श्री गुरुनानक संदेश यात्रा निकाली गई। यह यात्रा मंगलवार को ही सुबह 11 बजे मुख्यमंत्री आवास पहुंची। यहां शबद-कीर्तन और लंगर छकने की व्यवस्था की गई। 02 से 03 बजे के बीच यात्रा अयोध्या के लिए रवाना हो जाएगी। यह यात्रा बाराबंकी होते हुए अयोध्या स्थित ‘गुरुद्वारा ब्रह्मा कुंड’ पहुंच कर समाप्त होगी। यह श्री गुरु नानक देव जी की चरण स्थलीय है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »