कई तरह के हेल्थ इश्यू के लिए भी जिम्मेदार है फ्रिज का ठंडा तापमान

खाने-पीने की चीजों को लंबे समय तक प्रिजर्व करने के रखने के मकसद से हम उन्हें फ्रिज में रख देते हैं। किचन गैजेट के रूप में देखें तो फ्रिज बेहद काम की चीज है जो खाने को स्टोर कर रखने में मदद करता है और खाने को बर्बाद होने से बचाता है लेकिन फ्रिज का ठंडा तापमान कई तरह के हेल्थ इश्यू के लिए भी जिम्मेदार है। आपको जानकर हैरानी होगी कि खाने-पीने की ऐसी कई चीजें है जिन्हें आपको भूल से भी फ्रिज में नहीं रखना चाहिए। उन्हीं में से एक है आलू, आखिर क्यों आलू को फ्रिज में नहीं रखना चाहिए।
फ्रिज में रखे आलू से कैंसर का खतरा
जब आप आलू को फ्रिज में रखते हैं तो फ्रिज का ठंडा तापमान आलू में मौजूद स्टार्च को शुगर में बदल देता है। यह शुगर आगे फिर रिऐक्ट होती है और एक खतरनाक केमिकल में तब्दील हो जाती है जिससे कई तरह का कैंसर होने का खतरा रहता है।
क्या कहती है फूड स्टैंडर्ड एजेंसी
फूड स्टैंडर्ड एजेंसी द्वारा करवाई गई एक स्टडी के मुताबिक फ्रिज में रखे आलू को जब बेक या फ्राई किया जाता है तो आलू में मौजूद शुगर कन्टेंट आलू में मौजूद एमिनो ऐसिड ऐस्परैगिन के साथ मिक्स हो जाता है, नतीजतन ऐक्राईलामाइड नाम का केमिकल उत्पन्न होने लगता है।
आखिर क्या है ऐक्राईलामाइड?
अमेरिकन कैंसर सोसायटी की मानें तो वैसे खाद्य पदार्थ जिनमें स्टार्च पाया जाता है, जब वे फ्राइंग, रोस्टिंग या बेकिंग के जरिए उच्च तापमान के संपर्क में आते हैं तब उनमें ऐक्राईलामाइड नाम का केमिकल पाया जाता है। इस केमिकल का इस्तेमाल पेपर बनाने, प्लास्टिक बनाने और यहां तक की कपड़ों को डाई करने में भी होता है।
क्या कहती है रिसर्च?
पहली बार साल 2002 में ऐक्राईलामाइड के बारे में पता चला था और तब से लेकर अब तक कई स्टडीज हो चुकी हैं जिनमें यह बात निकलकर आयी है कि वैसे लोग जो उच्च तापमान पर पके स्टार्च वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं उनमें अलग-अलग तरह के कैंसर होने का खतरा भी अधिक होता है।
आखिर क्या है इस समस्या का हल?
अमेरिकन कैंसर सोसायटी की मानें तो आलू को फ्रिज में भूल से भी न रखें बल्कि आलू को सामान्य रूम टेंपरेचर पर किसी सूखी जगह पर रखना चाहिए। साथ ही आलू को बहुत ज्यादा उच्च तापमान पर पकाने से भी बचना चाहिए।
पानी में भिगोकर रखें आलू
फूड एक्सपर्ट्स और शेफ्स की मानें तो आलू को पकाने से पहले उसे छीलकर 15 से 30 मिनट के लिए पानी में भिगोकर रख देना चाहिए। ऐसा करने से आलू को पकाने के दौरान उसमें ऐक्राईलामाइड केमिकल बनने की आशंका कम हो जाती है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »