इथोपिया में बंधक बनाए IL&FS के सात भारतीय कर्मचारी

नई दिल्ली। वित्तीय संकट का सामना कर रही इन्फ्रास्ट्रक्चर लीजिंग ऐंड फाइनैंशल सर्विसेज लिमिटेड (IL&FS) के 7 भारतीय कर्मचारियों को अफ्रीकी देश इथोपिया में लोकल स्टाफ ने बंधक बना लिया है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक विदेश मंत्रालय बंधक बनाए गए कर्मचारियों के दावों की जांच कर रहा है। इन कर्मचारियों का दावा है कि कंपनी के 12.6 अरब डॉलर के लोन डिफॉल्ट के बाद लोकल स्टाफ को सैलरी नहीं मिली है, जिसके बाद उन्होंने इन्हें बंधक बना लिया है।
7 भारतीय कर्मचारियों को इथोपिया की 3 अलग-अलग जगहों पर 25 नवंबर से ही बंधक बनाकर रखा गया है। इन कर्मचारियों द्वारा भेजे गए ई-मेल के मुताबिक इन्हें ओरोमिया और अहमरा स्टेट में बंधक बनाया गया है।
बंधक बनाए गए कर्मचारियों का कहना है कि भारतीय और स्पेनिश कंपनी के जॉइंट वेंचर द्वारा बनाई जा रही कुछ सड़क परियोजनाओं पर काम रोके जाने के बाद शायद स्थानीय कर्मचारी दहशत में आ गए। इनका कहना है कि स्थानीय अधिकारी और पुलिस भी लोकल स्टाफ का ही पक्ष ले रहे हैं।
विदेश मंत्रालय और इथोपिया में भारतीय दूतावास के अधिकारी पूरे मामले पर नजर रखे हुए हैं। भारतीय दूतावास के एक अधिकारी ने बताया कि मामले पर करीबी नजर रखी जा रही है। मामले का समाधान निकालने के लिए इथोपिया के अधिकारियों और IL&FS मैनेजमेंट के साथ वह संपर्क बनाए हुए हैं। वहीं, नई दिल्ली स्थित विदेश मंत्रालय के एक अन्य अधिकारी ने भी पुष्टि की है कि वे इस मामले को देख रहे हैं।
IL&FS के प्रवक्ता ने ब्लूमबर्ग के सवालों पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है। वहीं, ओरोमिया के पुलिस कमिश्नर जनरल अलेमैयेहु एजिगु, डेप्युटी स्पोकपर्सन डेरेसा टेरेफ और अमहारा स्टेट के स्पोक्समैन निगुसु तिलाहुन ने 2-2 फोन कॉल्स और 2-2 टेक्स्ट मेसेज का तुरंत जवाब नहीं दिया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »