वैश्विक खेलों में भाग लेने वाले Players के लिए सीबीएसई ने आयोजित की अलग से परीक्षा

नई दिल्‍ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने पहली बार वैश्विक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले Players के लिए 10वीं और 12वीं कक्षा के छह छात्रों की अलग से परीक्षा ली।

ये Players नियमित बोर्ड परीक्षा के समय अंतरराष्ट्रीय खेलों में भाग ले रहे थे। छह में से चार खिलाड़ियों ने अपनी स्पर्धाओं में पदक भी जीते जिसमें राष्ट्रमंडल खेलों की रैपिड फायर पिस्टल स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीतने वाले अनीष भानवाला के अलावा के वेंकटाद्री, सहजप्रीत और रेखा शामिल हैं जो दसवीं के छात्र हैं। वेंकटाद्री ने दक्षिण एशिया तीरंदाजी चैम्पियनशिप में तीन रजत पदक अपने नाम किये। सहजप्रीत उस महिला रिकर्व टीम का हिस्सा थी जिसने इस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता।

दिल्ली की रेखा बैंकाक में हुए पैरा एशियाई खेलों में चैम्पियन बनी बास्केटबाल टीम की सदस्य थी। अमोलिका सिंह लखनऊ की कक्षा 12 की छात्रा हैं जिन्होंने बैडमिंटन में जूनियर डच ओपन अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट और योनेक्स जर्मन ओपन टूर्नामेंट में देश का प्रतिनिधित्व किया था। अजमेर के मयूर स्कूल में पढ़ने वाले मानव ठक्कर ने टेबल टेनिस में देश का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने इस दौरान जापान के योकाहामा में हुए एशिया कप और ट्यूनीशिया में हुए ‘रोड टू ब्यून्स आयर्स’ में भाग लिया था।

सीबीएसई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘खेलों को बढ़ावा देने के लिए सीबीएसई की विशेष मुहीम के तहत खिलाड़ियों को अभ्यास और प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए छूट दी गयी। इसमें छह खिलाड़ी ऐसे थे जिसने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के समय विभिन्न खेलों में देश का प्रतिनिधित्व किया।’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने भारतीय खेल प्राधिकरण और युवा एवं खेल मामले के मंत्रालय से इसकी पुष्टि की और 10वीं कक्षा के चार तथा 12वीं कक्षा के दो Players को बाद में बोर्ड परीक्षा देने की अनुमति दी।’’

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »