रामलला के मुख्य पुजारी का सनसनीखेज आरोप: करोड़ों के दान के गहनों की चोरी कर रहा है प्रशासन

राम जन्मभूमि को लेकर विवादों में घिरी अयोध्या रविवार को दानपात्र में घोटाले को लेकर सुर्खियों में आ गई। रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र देव ने प्रशासन पर करोड़ों के गहने चोरी का आरोप लगाया है।
उन्होंने कहा कि रामलला के मंदिर में आने वाले दान के गहनों की चोरी की जा रही है।
इतना ही नहीं, उन्होंने कमिश्नर ऑफिस में तैनात बाबू बसंत लाल मौर्या का नाम लेते हुए कहा कि वह इन गहनों की बदौलत वह करोड़ों की संपत्ति का मालिक बन गया है।
उन्होंने कहा कि 2000 से लेकर अब तक मंदिर में आए गहनों का कोई ब्योरा उपलब्ध नहीं है जबकि हर साल बड़ी मात्रा में लोग गहने दान करके जाते हैं। जब भी इस मामले की शिकायत रिसीवर से की गई तो सभी ने चुप्पी साध ली। उन्होंने कहा कि यहां नीचे से लेकर ऊपर तक सभी सिर्फ बसंत लाल के कहने पर चलते हैं।
हालांकि यह पहला मामला नहीं है जब पुजारी ने प्रशासन पर इस तरह के गंभीर आरोप लगाए हैं। बताया जा रहा है कि पुजारी प्रशासन द्वारा मंदिर संचालन के लिए भेजे जाने बिलों में कटौती को लेकर नाराज हैं।
हाल ही में रामनवमी के अवसर पर जन्मोत्सव के आयोजन में 51 हजार रुपए का खर्च आया था। इसका बिल पुजारी ने मंडलायुक्त के रिसीवर को भेजा भुगतान के लिए भेजा था लेकिन प्रशासन की ओर से 51 हजार के बजाए मात्र 42 हजार रुपए ही प्राप्त हुए।
इस संबंध में पुजारी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी शिकायत की है। इसकी कॉपी दिखाते हुए उन्होंने मीडिया से कहा कि मंदिर के खर्चों में प्रशासन कंजूसी दिखा रहा है। रामनवमी का अयोजन और भव्य हो सकता था, लेकिन प्रशासन की ओर से पैसा न दिए जाने से तैयारियां उस स्तर पर नहीं हो सकीं। उन्होंने कहा कि प्रशासन को यह भी देखना चाहिए कि राममंदिर से चंदे के रूप में कितना पैसा सरकार के पास जाता है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »