जीएल बजाज में विदेश शिक्षा नीति पर हुई Seminar

-Seminar मेें ग्रुप के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल बोले-विशेषज्ञों से छात्रों को विदेशी छात्रवृत्तियों की जानकारी दिलवाना जरुरी

-Seminar मेें  विशेषज्ञ वसुंधरा खंडेलवाल ने भारत की विदेश शिक्षा नीति को छात्रों के अनुकूल बताया

मथुरा। जीएल बजाज ग्रुप आॅफ इंस्टीटयूशंस में छात्रों के तकनीकी ज्ञान के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंर्तराष्ट्रीय शिक्षा की जानकारी भी छात्र-छात्राओं को दी जा रही है। विशेषज्ञों के माध्यम से उन्हें विदेशों में मिल रहीं छात्रवृत्तियों और शिक्षा की जानकारी दिलवाई जा रही है। जो कि उनके कॅरियर के लिए जरुरी है। इससे वे अपने कॅरियर को बुलंदियों तक ले जा सकेंगे।

ये विचार आरके ग्रुप के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल ने अकबरपुर स्थित जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयूशंस द्वारा आयोजित एक दिवसीय संगोष्ठी का उद्घाटन करते हुए व्यक्त किये। ग्रुप के एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि छात्र-छात्राओं को आयोजित होने वाली ऐसी सेमीनार, संगोष्ठी और डिस्कशन मीटिंग्स का लाभ अपने कॅरियर को संवारने में उठाना चाहिए। इससे वे प्लेसमेंट को आने वाली कम्पनियों में अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन कर सकें। जीएल बजाज के निदेशक डा. एस. राय चैधरी ने कहा कि हर छात्र-छात्रा को हक है कि वह अपने कॅरियर ग्राफ को उच्चतम बिंदू तक ले जाए। इसी के लिए कालेज में आयेदिन सेमीनार और संगोष्ठियों का आयोजन होता रहता है। जिसका लाभ छात्र-छात्रा जमकर उठा रहे हैं।

अंर्तराष्ट्रीय शिक्षण संस्थान और उनमें मिलने वाली छात्रवृत्तियों की जानकार वसुंधरा खंडेलवाल ने बताया कि भारत की विदेश शिक्षा नीति बहुत अच्छी है। ये उनके अनुकूल है। इसका उपयोग छात्र-छात्राओं को अपने कॅरियर को संभालने में करना चाहिए। वे अपनी प्रतिभा के बल पर विदेशों मेें मेहनत करके धन और यश कमा सकते हैं। इसके लिए उन्हें जो मार्गदर्शन दिया गया है उसे उपयोग कर मेहनत करने की जरुरत है। उन्होंने छात्र-छात्राओं को टेस्ट आॅफ इंग्लिश एंड फोरेन लैग्वेज जैसे कई टेस्टों की जानकारी देकर उनके मन से विदेशी भाषा के प्रति डर के भाव को निकाला। विदेशी छात्रवृत्तियां, उनकी आवेदन प्रक्रिया, वीसा प्राप्त करने की प्रक्रिया के बारे में विशद चर्चा की। कार्यक्रम के अंत में सीएस विभाग के विभागाध्यक्ष अंकुर सक्सेना ने छात्रों के सपनों को पंख लगाए। अंत में प्रबंधन विभाग के विभागाध्यक्ष जीतेंद्र सिंह ने वसुंधरा खंडेलवाल को सम्मानित कर Seminar का समापन किया।