दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही कंपनियों पर अतिरिक्त निगरानी रखेगी सेबी

नई दिल्‍ली। पूंजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही कंपनियों पर सोमवार से अतिरिक्त निगरानी व्यवस्था अमल में लाएगा। प्रमुख शेयर बाजार बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने यह जानकारी दी है।
बीएसई पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल एबीजी शिपयार्ड, एमटेक ऑटो, भूषण स्टील, जेपी इन्फ्राटेक, इलेक्ट्रोस्टील स्टील्स, मंधाना इंडस्ट्रीज, मेनेट इस्पात एंड एनर्जी, रुचि सोया इंडस्ट्रीज, सुप्रीम टेक्स मार्ट, वर्धमान इंडस्ट्रीज और आरईआइ एग्रो समेत 75 कंपनियां इंसॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड (आइबीसी) के तहत दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही हैं। बाजार की अक्षुण्णता और निवेशकों के हित सुरक्षित रखने के लिए सेबी और शेयर बाजार निगरानी के और मजबूत तंत्र लागू कर रहे हैं। इनमें प्राइस बैंड में कमी और सिक्युरिटीज को समय-समय पर ट्रेड-टु-ट्रेड कैटेगरी में लाने जैसे उपाय शामिल हैं।
बीएसई ने एक बयान में शनिवार को कहा, ‘पहले से लागू निगरानी तंत्र को मजबूती देने के लिए सेबी और शेयर बाजारों की संयुक्त निगरानी बैठकें हुई हैं। उनमें हुई चर्चाओं पर अमल करते हुए आइबीसी के तहत समाधान प्रक्रिया (आइआरपी) से गुजर रही कंपनियों के लिए सोमवार से अतिरिक्त निगरानी तंत्र अमल में लाए जा रहे हैं।’
बीएसई ने कहा कि इसके तहत आइबीसी प्रक्रिया से गुजर रही कंपनियों की मॉनिटरिंग पूर्व निर्धारित मानदंडों के हिसाब से होगी। मानदंडों पर खरा उतरने के बाद सिक्युरिटीज पर 100 फीसद मार्जिन वसूल की जाएगी। उन सिक्युरिटीज को फिर से निष्पक्ष कसौटियों पर रखा जाएगा और सभी कसौटियों पर खरा उतरने के बाद उन्हें ट्रेड-टु-ट्रेड सेग्मेंट में रखा जाएगा। बीएसई ने यह भी कहा कि नवीनतम निगरानी तंत्र पूर्व में समय-समय पर लागू निगरानी के अतिरिक्त होंगे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »