कैराना का मांस प्रसंस्करण संयंत्र सील

slaughterhouse-sealed
कैराना का मांस प्रसंस्करण संयंत्र सील

मुज़फ्फ़रनगर। शामली जिले के कैराना कस्बे में जिला अधिकारियों द्वारा जांच के दौरान ‘अनियमितता’ पाये जाने के बाद यहां एक मांस प्रसंस्करण संयंत्र को सील कर दिया गया।

क्षेत्राधिकारी भूषण वर्मा ने बताया, कि उपसंभागीय जिलाधिकारी विजय प्रकाश के नेतृत्व में अधिकारियों के एक दल ने कल मीम एग्रो फूड्स प्रा0 लि0 की जांच की और इसे सील कर दिया।

उन्होंने बताया कि इसबीच कल थाना भवन, जलालाबाद और शामली कस्बे में कथित तौर पर बगैर लाइसेंस के चल रही मांस की अनेक दुकानों को भी बंद कराया गया।

इसी प्रकार मुजफ्फरनगर जिले के बुढ़ाना, खतौली, शाहपुर, चरथवाल कस्बे में भी इस प्रकार की अनेक दुकानें बंद रहीं ।

Read It Also:

मुख्‍यमंत्री का पुलिस अफसरों को निर्देश: राज्य में सभी बूचड़खाने बंद करने के लिये कार्ययोजना बनाएं

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने राज्य में बूचड़खाने (पशु वधशालाएं) बंद करने के भाजपा के चुनावी एजेंडे पर अमल शुरू करते हुए बुधवार को पुलिस अफसरों को पूरे राज्य में बूचड़खाने बंद करने के लिये कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये.
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक आदित्यनाथ ने प्रदेश में गायों की तस्करी पर पूर्ण पाबंदी लगाने और इस मामले में कोई भी ढिलाई बर्दाश्त ना करने के आदेश भी दिये हैं.
बहरहाल, सूत्रों ने यह नहीं बताया कि मुख्यमंत्री ने किस तरह के बूचड़खानों को बंद करने के लिये कार्ययोजना तैयार करने को कहा है.
भाजपा के चुनाव घोषणापत्र में कहा गया है कि प्रदेश में उसकी सरकार बनने पर सभी यांत्रिक पशु वधशालाएं बंद कर दी जाएंगी.
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अपनी हर चुनावी जनसभा में कहते थे कि प्रदेश में उनकी पार्टी की सरकार आते ही रात 12 बजे से पहले प्रदेश के सभी बूचड़खाने बंद कर दिये जाएंगे.
मुख्यमंत्री ने बुधवार को जारी आदेशों में असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के भी निर्देश दिये हैं.
उन्होंने कहा है कि जो लोग पुलिस सुरक्षा को ‘स्टेटस सिम्बल’ की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं, उन पर खतरे की जांच करके जरूरत पड़ने पर उनकी सुरक्षा में बदलाव भी किया जा सकता है.-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *