झारखंड में भी seat sharing पर अड़ा महागठबंधन का पेंच

रांची। झारखंड में भी seat sharing पर मामला सुलझता हुआ नहीं दिख रहा है हालांकि झारखंड में seat sharing का फॉमूर्ला तय होने की बात सामने आई थी।

आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन को मजबूत करने की कवायद जारी है। बिहार में महागठबंधन में सीट शेयरिंग पर फैसला नहीं हुआ है।

झारखंड में भी सीट शेयरिंग पर मामला सुलझता हुआ नहीं दिख रहा है हालांकि झारखंड में सीट शेयरिंग का फॉमूर्ला तय होने की बात सामने आई थी लेकिन जेएमएम ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए खारिज कर दिया है।

हाल ही में झारखंड के महागठबंधन के नेता कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने के लिए दिल्ली पहुंचे थे जिसके बाद खबर आई थी कि सीट शेयरिंग पर बात हो चुकी है जिसमें कांग्रेस को 7, जेएमएम को 4, जेवीएम को 3 और आरजेडी को एक सीट दिए जाने की बात सामने आई थी जिसके बाद सीट शेयरिंग पर मामला सुलझता दिख रहा था।

लेकिन दिल्ली का फार्मूला झारखंड में जेएमएम को फिलहाल उचित नहीं लग रहा है। जेएमएम ने इस फॉर्मूले को खारिज कर दिया है। जेएमएम 4 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है। जेएमएम ने कुल 6 सीट का दावा जताया है जिसमें दुमका, राजमहल,गिरिडीह,चाईबासा, जमशेदपुर, खूंटी, दुमका सीट शामिल हैं।

कांग्रेस की ओर से महागठबंधन में किसी तरह के विवाद को सिरे से खारिज किया जा रहा है। कांग्रेस का कहना है कि महागठबंधन को लेकर सारी चीजें तय हो चुकी है। अगर कहीं कोई विवाद है तो उसे सुलझा लिया जाएगा।

महागठबंधन के उलझे पेंच सत्तारूढ़ दल को भी हमला बोलने का मौका दे दिया है। बीजेपी नेता सीपी सिंह ने कहा इनका नूरा कुश्ती चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र से लेकर राज्य तक सभी को बीजेपी का डर सता रहा है। कल जो एक दूसरे को देखना नहीं चाहते थे। वह आज मोदी विरोध में एक साथ हो रहे हैं।

बहरहाल दिल्ली में झारखंड के महागठबंधन का पेंच सुलझाने का दावा करने वाली कांग्रेस के फॉर्मूले को रांची में जेएमएम ने खारिज कर कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ा दी है। ऐसे में देखना यह होगा कि कांग्रेस जेएमएम को कैसे मनाएगी।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »