SBI को अब तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा

नई दिल्‍ली। SBI को जनवरी-मार्च तिमाही में 7,718 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। ये अब तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा है। एक साल में बैंक का एनपीए दोगुने से भी ज्यादा बढ़ गया है। पिछले साल जनवरी-मार्च तिमाही में एनपीए 11,740 करोड़ रुपए था जो 22,096 करोड़ रुपए हो गया है। अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में ये 18,876 करोड़ रुपए था।
लगातार दूसरी तिमाही में घाटा
-अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में भी SBI को 2,416.37 करोड़ रुपए का घाटा हुआ जबकि पिछले साल की तीसरी तिमाही में 2,814.82 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था।
पूरे वित्त वर्ष में 6,547 करोड़ का नुकसान
– वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान बैंक को 6,547 करोड़ का नुकसान हुआ है जबकि 2016-17 में 10,484 करोड़ का मुनाफा हुआ था।
बैंक की आय बढ़ी
– चौथी तिमाही में SBI की आय 68,436.06 करोड़ रुपए रही है। पिछले साल की जनवरी-मार्च तिमाही में आय 57,720.07 करोड़ रुपए थी। पूरे वित्त वर्ष के दौरान आय 2,59,664 करोड़ रुपए रही है जो 2016-17 में 2,10,979 करोड़ थी।
ब्याज से आय में बढ़ोत्तरी
– जनवरी-मार्च तिमाही में ब्याज से आय 10.5% बढ़कर 19,974 करोड़ रुपए हो गई। पिछले साल की चौथी तिमाही में ये 18,070.7 करोड़ रुपए थी।
10.91% ग्रॉस एनपीए, 5.73% नेट एनपीए
– SBI का ग्रॉस एनपीए बढ़कर 10.91% हो गया है। 2017 की जनवरी-मार्च तिमाही में ये 6.90% था।
– पिछले साल की तुलना में नेट एनपीए 3.71% से बढ़कर 5.73% हो गया है।
– रकम के हिसाब से ग्रॉस एनपीए 2,23,427 करोड़ रुपए रहा है जो कि पिछले साल की मार्च तिमाही में 1,12,343 करोड़ रुपए था।
– इस दौरान नेट एनपीए 58,277 की तुलना में बढ़कर 1,10,855 करोड़ रुपए हो गया है।
एनपीए की प्रोविजनिंग में 119% बढ़ोत्तरी
– मार्च तिमाही में एनपीए की प्रोविजनिंग 24,080 करोड़ रुपए पहुंच गई। 2016-17 की मार्च तिमाही में ये 10,993 करोड़ रुपए थी।
पीएनबी के बाद सबसे बड़ा तिमाही घाटा
– भारतीय बैंकिंग इतिहास में पीएनबी के बाद SBI को सबसे बड़ा तिमाही घाटा हुआ है। नीरव मोदी के घोटाले की वजह से चौथी तिमाही में पीएनबी को रिकॉर्ड 13,417 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। वहीं एनपीए बढ़ने से एसबीआई को 7,718 करोड़ का घाटा हुआ है।
बैंकिंग इतिहास के सबसे बड़े तिमाही घाटे

बैंक घाटा तिमाही
पीएनबी 13,417 करोड़ मार्च 2018
एसबीआई 7,718 करोड़ मार्च 2018
पीएनबी 5,367 करोड़ मार्च 2016
केनरा बैंक 4,860 करोड़ मार्च 2018
केनरा बैंक 3,905 करोड़ मार्च 2016
बैंक ऑफ इंडिया 3,587 करोड़ मार्च 2016
शेयर 5% उछला, मार्केट कैप 8,077 रुपए बढ़ी
– खराब नतीजों के बावजूद एसबीआई के शेयर में तेजी रही। बीएसई पर शेयर करीब 4% वहीं एनएसई पर 5% तेजी के साथ बंद हुआ।
एक्सचेंज शेयर प्राइस बढ़ोत्तरी
बीएसई 254.15 रु.
9.05 रु.
(3.69%)
एनएसई 255.70 रु.
11.25
(4.60%)
SBI के नतीजे: 5 बड़ी बातें
1) सबसे बड़े बैंक का अब तक का सबसे बड़ा (7,718 करोड़ रु.) तिमाही घाटा
2) लगातार दूसरी तिमाही में हुआ नुकसान
3) बैंकिंग इतिहास का दूसरा बड़ा तिमाही घाटा
4) एनपीए की प्रोविजनिंग में 119% बढ़ोत्तरी
5) ग्रॉस एनपीए करीब दोगुना होकर 2,23,427 करोड़ रुपए पहुंचा
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »