शनि ग्रह के पास अब सबसे अधिक चांद, बढ़ सकती है संख्‍या

शनि ग्रह के पास अब सबसे अधिक चांद हैं और इनकी संख्या 82 तक पहुंच गई है। इससे पहले तक बृहस्पति के पास सबसे अधिक 79 चांद थे।
खगोलशास्त्रियों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि भविष्य में शनि के चांदों की संख्या बढ़ सकती है।
केप कार्निवल
सौर मंडल के ग्रहों में चांद की संख्या के आधार पर अब शनि ग्रह विजेता है। शनि पर वैज्ञानिकों ने 20 नए चांद पाए जाने की पुष्टि की है। 20 नए चांद के साथ ही शनि ग्रह पर अब कुल चांद की संख्या 82 हो गई है। वैज्ञानिकों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि अब शनि ग्रह के सबसे अधिक चांद हैं। इससे पहले तक बृहस्पति ग्रह के सबसे अधिक 79 चांद थे।
बृहस्पति के पास अब भी सबसे बड़ा चांद
कार्निगेज इंस्टिट्यूशन ऑफ साइंस के एस्ट्रॉनॉमर स्कॉट शेपर्ड ने इस पर कहा, ‘यह जानना बेहद दिलचस्प है कि अब शनि ग्रह चांद की संख्या के आधार पर राजा है। सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के लिए अब भी राहत की बात सिर्फ यही है कि उसके पास सबसे बड़ा चांद है।’ बृहस्पति का कुल आकार पृथ्वी से लगभग दोगुना है। हालांकि, दिलचस्प बात यह है कि शनि के 20 नए चांद आकार में बहुत छोटे-छोटे हैं और प्रत्येक का डायमीटर करीब 5 किमी. तक ही सीमित है।
शनि के आसपास और छोटे चांद होने की संभावना
शेपर्ड और उनकी टीम ने हवाई में टेलिस्कोप के जरिए इस बार गर्मियों में 20 नए चांद पाए जाने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि संभव है कि शनि ग्रह पर बहुत छोटे-छोटे 100 ऐसे और चांद भी हो, हम उन्हें ढूंढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। खगोलशास्त्रियों का कहना है कि शनि के आसपास 5 किमी. और बृहस्पति के आसपास 1.6 किमी. के दायरे तक में चांद को ढूंढ़ने में हम सफल रहे हैं। बहुत छोटे उपक्रमों को देखने के लिए हम और आधुनिक टेलिस्कोप का प्रयोग करेंगे।
उल्टी दिशा में परिक्रमा कर रहे हैं 20 में से 17 चांद
खगोलशास्त्री शेपर्ड ने एक ईमेल में इससे जुड़ी जानकारी साझा करते हुए कहा, ‘शनि के पास सबसे अधिक चांद हैं और भविष्य में कई और छोटे चांद मिल सकते हैं। ऐसा लगता है कि ये बेबी मून अपने उद्भव स्थल वाले बड़े चांद से टूटकर छोटे-छोटे टुकड़ों में बंट गए। 20 में से 17 छोटे चांद ऐसे हैं जो ग्रह पर दूसरी दिशा से आते हुए लग रहे हैं।’ पिछले साल ही बृहस्पति के पास शनि ग्रह के 12 नए चांद खोजे गए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »