संस्कृति विवि Ayurvedic medicines का उत्पादन करेगा

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय का आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्‍पिटल शीघ्र ही उच्च गुणवत्तायुक्त Ayurvedic medicines का उत्पादन करने जा रहा है। यह उत्‍पादन उन्नत एवं नवीन तकनीकों का इस्तेमाल करके किया जाएगा।

सर्वविदित है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा क्षेत्र में मरीजों के बेहतर एवं कारगर इलाज में Ayurvedic medicines का योगदान काफी महत्वपूर्ण रहता है।

संस्कृति आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्पिटल के निदेशक एवं अन्य कर्मी उत्पादन सम्बन्धी प्रक्रियाओं एवं अन्य विधि सम्मत अनुमतियाँ प्राप्त करने की प्रक्रिया में लगे हुए हैं। आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन आयुर्वेदिक कॉलेज के निदेशक की देखरेख में समस्त अनुमतियाँ प्राप्त करने के पश्चात यथाशीघ्र किया जाएगा।

संस्कृति आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्पिटल में आयुर्वेदिक दवाओं के उत्पादन से मरीजों को नवीन तकनीक से तैयार दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकेगी। बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एवं सर्जरी में अध्यनरत छात्रों को उन्नत एवं नवीनतम तकनीकों का इस्तेमाल कर उच्च गुणवत्ता युक्त आयुर्वेदिक दवाओं के उत्पादन प्रक्रियाओं को जीवंत रूप से देखने तथा इंटर्नशिप के दौरान सीखने का मौका भी मिलेगा।

कुलाधिपति सचिन गुप्ता ने हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि संस्कृति विश्वविद्यालय के संस्कृति आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्पिटल एवं स्कूल ऑफ़ फार्मेसी के छात्रों के लिए आयुर्वेदिक दवाओं के उत्पादन की शुरुआत एक सौगात के रूप में है जिसमें शिक्षकों और छात्रों को आयुर्वेदिक दवाओं के उत्पादन के बारे में सम्पूर्ण जानकारी तथा उत्पादन प्रक्रिया के जीवंत रूप को देखने एवं सीखने का अनूठा अनुभव प्राप्त होगा जो कि संस्कृति विश्वविद्यालय के आउटकम बेस्ड शिक्षण प्रणाली में एक नया मील का पत्थर साबित होगा।

उप कुलाधिपति राजेश गुप्ता ने अपने सन्देश में कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली तथा प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए उन्नत एवं नवीन तकनीकों का इस्तेमाल कर उच्च गुणवत्ता युक्त आयुर्वेदिक दवाओं से मरीजों को कम कीमत में अच्छी एवं कारगर दवाइयां उपलब्ध कराने के लिये आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन किया जा रहा है।

एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर पी सी छाबड़ा ने कहा कि आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन छात्रों को उपलब्ध प्रयोगशालाओं के अलावा असली दवाओं के उत्पादन प्रक्रियाओं को देखने एवं सीखने का स्वर्णिम अवसर मिलेगा।

कुलपति डॉ. राणा सिंह ने कहा कि आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन छात्रों एवं शिक्षकों को आयुर्वेद‍िक दवाओं की दक्षता और प्रभावशीलता के क्षेत्र में अनेक शोध करने तथा नई दवाओं के विकास, उपलब्ध दवाइयों के उन्नत स्वरुप का विकास करने के काफी मौके प्रदान करेगा जिससे संस्कृति आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्पिटल के छात्रों एवं शिक्षकों के शोध एवं प्रकाशन गतिविधियों को नया आयाम मिलेगा।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *